बसपा प्रमुख मायावती ने उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव में भाजपा पर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार शनिवार को उन्होंने कहा, ‘भाजपा ने 2017 के विधानसभा चुनाव में ईवीएम से छेड़छाड़ की थी, जैसा उन्होंने 2014 में किया था.’ मायावती ने आगे कहा, ‘इस निकाय चुनाव में भी उन्होंने (भाजपा) चुनावी प्रक्रिया से छेड़छाड़ की, नहीं तो हमारे ज्यादा मेयर होते. फिर भी वे हमें हरा नहीं पाए, बसपा दूसरे नंबर पर आई है.’

रिपोर्ट के मुताबिक बसपा प्रमुख मायावती ने ईवीएम की जगह मतपत्रों से चुनाव कराने की चुनौती दी. उन्होंने कहा, ‘मैं भाजपा को चुनौती देती हूं कि अगर वह संविधान में भरोसा करती है तो ईवीएम को हटाकर मतपत्रों से चुनाव कराए.’ मायावती ने आगे कहा कि अगर ईवीएम की जगह मतपत्रों से चुनाव हो तो भाजपा नहीं जीत पाएगी. भाजपा ने उत्तर प्रदेश निकाय चुनावों में ऐतिहासिक जीत दर्ज की है. प्रदेश में मेयर की 16 सीटों में 14 पर भाजपा और बाकी दो पर बसपा जीती है.

बसपा प्रमुख मायावती ने निकाय चुनाव में पार्टी को दलितों के साथ-साथ मुस्लिमों और अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों का साथ मिलने का दावा किया. उन्होंने कहा, ‘हमारे साथ समाज के सभी तबके जुड़ रहे हैं, क्योंकि बसपा सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय में भरोसा करती है.’ मायावती ने आगे कहा कि बसपा ने जब कभी चुनाव जीता है, इसी सिद्धांत के साथ सरकार चलाई है. बसपा प्रमुख ने कहा कि दलितों के साथ सवर्णों, पिछड़े वर्गों और अल्पसंख्यक समुदाय का पार्टी के साथ आना अच्छी बात है.