‘भारतीय अर्थव्यवस्था को मिले नोटबंदी के झटके से केवल चीन को फायदा पहुंचा है.’

— मनमोहन सिंह, कांग्रेस नेता और पूर्व प्रधानमंत्री

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का यह बयान नोटबंदी के फैसले को बेमकसद बताते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘2016-17 की पहली छमाही में चीन से आयात में अप्रत्याशित उछाल आ गया.’ सूरत में व्यापारियों को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था को 1.5 लाख करोड़ रुपये नुकसान उठाना पड़ा. उन्होंने आगे कहा कि नोटबंदी से लोगों ने अपने काले धन को वैध बना लिया, जबकि गरीबों को मुसीबत झेलनी पड़ी. पूर्व प्रधानमंत्री का यह भी कहना था कि 2017-18 में भले ही आर्थिक विकास दर 6.7 फीसदी पहुंच गई हो, लेकिन यूपीए सरकार के समय के 10.6 फीसदी औसत विकास दर से काफी कम है.

 ‘वक्त आ गया है कि देश का नेतृत्व राहुल गांधी जैसा कोई खानदानी व्यक्ति करे.’ 

— नवजोत सिंह सिद्धू, पंजाब के पर्यटन मंत्री और कांग्रेस नेता

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू का यह बयान राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाने के फैसले का समर्थन करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘मैं हमेशा से कहता आ रहा हूं कि राहुल गांधी खानदानी व्यक्ति हैं. मैं मानता हूं कि राहुल गांधी काफी परिपक्व हो गए हैं.’ नवजोत सिंह सिद्धू ने आगे कहा कि उन्हें राहुल गांधी पर पूरा भरोसा है और वे हार को जीत में तब्दील करने का काम कर रहे हैं. हालांकि, इससे पहले महाराष्ट्र के सचिव शहजाद पूनावाला ने पार्टी अध्यक्ष चुनाव में धांधली का आरोप लगाया था. शहजाद पूनावाला ने कहा था कि अगर सही से चुनाव हो तो वे भी पार्टी अध्यक्ष के लिए दावेदारी कर सकते हैं.


‘चाहे 2019 हो या 2024, इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें आगे भी गड़बड़ ही रहने वाली हैं.’

— जितेंद्र सिंह, केंद्रीय मंत्री

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह का यह बयान उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव के बाद विपक्षी दलों द्वारा इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) से छेड़छाड़ का आरोप लगाने पर तंज करते हुए आया. इसका कारण बताते हुए उन्होंने कहा, ‘हर दिन बीतने के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का ग्राफ बढ़ता जा रहा है, इसलिए ईवीएम मशीनें उनके (विपक्ष) के पक्ष में कभी नहीं जाने वाली हैं.’ गुजरात चुनाव को लेकर जितेंद्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस जमीनी हकीकत को समझने में चूक रही है, ऐसे में वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए जितना असम्मानजनक भाषा का इस्तेमाल कर रही है, उससे भाजपा को फायदा होने जा रहा है. केंद्रीय मंत्री ने राहुल गांधी के सोमनाथ मंदिर में दर्शन के लिए जाने को पाखंड बताया.


‘जब हिंदुत्व की असली पार्टी (भाजपा) मौजूद है तो लोग नकली (कांग्रेस) को क्यों चुनें?’

— अरुण जेटली, केंद्रीय वित्त मंत्री

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली का यह बयान भाजपा को हमेशा से हिंदुत्व का समर्थन करने वाला दल बताते हुए आया. मोदी सरकार के आर्थिक कदमों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा, ‘1990 में कांग्रेस पार्टी में मजबूरी में आर्थिक सुधारों को अपनाया था. लेकिन मोदी सरकार के नेतृत्व में इसे पूरे भरोसे के साथ लागू किया जा रहा है.’ अरुण जेटली ने आगे कहा कि भाजपा अपने विश्वास को बचाए रखने में सफल है, वहीं कांग्रेस धीरे-धीरे खत्म होती जा रही है. पूर्ववर्ती यूपीए सरकार को सबसे भ्रष्ट सरकार बताते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री का कहना था कि वह नेतृत्वविहीन सरकार थी और प्रधानमंत्री केवल नाम के लिए प्रधानमंत्री थे.


‘सुरक्षा परिषद में उत्तर कोरिया को लेकर निक्की हेली का बयान युद्ध उन्मादी प्रतिक्रिया थी.’

— सर्जेई लावरोव, रूस के विदेश मंत्री

रूसी विदेश मंत्री सर्जेई लावरोव का यह बयान संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली द्वारा उत्तर कोरिया को बर्बाद करने की धमकी देने की निंदा करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘अगर कोई भी उत्तर कोरिया पर ताकत अजमाना चाहता है, जैसा कि अमेरिकी प्रतिनिधि ने कहा है, तो वह आग से खेल रहा है और ऐसा करना यह बड़ी भूल होगी.’ उत्तर कोरिया संकट के राजनीतिक-कूटनीतिक समाधान पर जोर देते हुए सर्जेई लावरोव ने कहा कि उसके खिलाफ ताकत का इस्तेमाल न हो, यह सभी को सुनिश्चित करना होगा. रूसी विदेश मंत्री के मुताबिक रूस और अमेरिका दोनों ही उत्तर कोरिया को हथियारों से मुक्त करना चाहते हैं, लेकिन अमेरिका ने 2015 के ईरान समझौते से पीछे हटकर दुनिया को गलत संदेश दिया है.