अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके प्रशासन द्वारा आठ देशों के नागरिकों के अमेरिका आने पर प्रतिबंध लगाए जाने के फैसले को अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने मंजूरी दे दी है. सोमवार को दिए आदेश में कोर्ट ने कहा कि ट्रंप प्रशासन का यह फैसला पूरी तरह से लागू किया जा सकता है. इन आठ देशों में छह मुस्लिम देश हैं. इस प्रतिबंध के चलते ईरान, यमन, चाड, सोमालिया, लीबिया, सीरिया, उत्तर कोरिया और वेनेजुएला के लोग अमेरिका नहीं आ सकेंगे.

इस मामले पर अभी कुछ छोटी अदालतों में फैसला आना बाकी है. इससे पहले इन अदालतों ने कहा था कि अमेरिका में रह रहे इन देशों के किसी शख्स के दादा-दादी, नाना-नानी और चचेरे भाई-बहन जैसे रिश्तेदारों के उसके पास आने पर रोक नहीं लगाई जा सकती. सुप्रीम कोर्ट ने उम्मीद जताई है कि ये अदालतें उचित समय में अपना फैसला सुना देंगी ताकि वह अगले साल जून के आखिर तक इस मुद्दे पर सुनवाई और फैसला कर सके.

उधर, अमेरिका में रह रहे मुस्लिमों का प्रतिनिधित्व करने वाली परिषद ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले की निंदा की है. परिषद ने कहा है कि यह आदेश अमेरिका में रहने वाले लोगों और बाहर रह रहे उनके परिवारों को होने वाले मानवीय नुकसान की अनदेखी करता है. हवाई और वाशिंगटन जैसे राज्य भी ट्रंप प्रशासन के इस फैसले का विरोध कर रहे हैं.