प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘नीच’ कहने को लेकर कांग्रेस ने मणिशंकर अय्यर की प्राथमिक सदस्यता निलंबित कर दी है. इससे जुड़ी खबरों को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. खबरों के मुताबिक निलंबित किए जाने से पहले मणिशंकर अय्यर ने अपने बयान को लेकर माफी मांग ली थी. उधर, नरेंद्र मोदी उनके इस कथन को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधने से नहीं चूके. उन्होंने गुजरात के सूरत में कहा, ‘यह गुजरात और भारत की महान परंपराओं का अपमान है. इस तरह का बयान मुगलई और सल्तनती मानसिकता है.’

केंद्र सरकार ने सरकारी योजनाओं और सेवाओं से आधार संख्या को जोड़ने की समय-सीमा एक बार फिर बढ़ाने का फैसला किया है. यह खबर भी अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. अब नागरिकों को इसके लिए 31 मार्च, 2018 तक का वक्त दिया गया है. सुप्रीम कोर्ट में अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि इससे जुड़ा नोटिफिकेशन आठ दिसंबर को जारी होगा. इससे पहले यह समय-सीमा 31 दिसंबर, 2017 थी.

गुजरात चुनाव : भाजपा प्रत्याशी के सांप्रदायिक तनाव बढ़ाने वाले भाषण पर चुनाव आयोग का नोटिस

गुजरात के डभोई विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी शैलेश मेहता ‘सोट्टा’ के खिलाफ चुनाव आयोग ने सांप्रदायिक तनाव बढ़ाने वाले भाषण को लेकर नोटिस जारी किया है. द इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक आयोग ने भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ यह कदम बीते बुधवार को दिए गए भाषण के आधार पर उठाया है. अपने भाषण में शैलेश मेहता ‘सोट्टा’ ने कहा था, ‘अगर यहां कोई टोपी, दाढ़ीवाला बैठा है तो मुझे माफ करे, लेकिन उनकी आबादी कम करने की जरूरत है. यहां दुबई (मुसलमानों) की कोई आबादी नहीं होनी चाहिए.’ इसके अलावा उन्होंने कहा कि वे मस्जिद और मदरसे के लिए एक पैसा नहीं देंगे. डभोई में मुसलमानों की आबादी करीब 38 फीसदी है.

पैसे लेकर संसद में सवाल पूछने के मामले में 11 पूर्व सांसदों पर भ्रष्टाचार और आपराधिक साजिश के आरोप तय

दिल्ली स्थित निचली अदालत ने पैसे लेकर संसद में सवाल पूछने के मामले में 11 पूर्व सासंदों पर भ्रष्टाचार और आपराधिक साजिश के आरोप तय कर दिए हैं. जनसत्ता ने इस खबर को पहले पन्ने पर जगह दी है. अखबार के मुताबिक 2005 के इस मामले की सुनवाई 12 जनवरी, 2018 को शुरू की जाएगी. इन आरोपितों में छह भाजपा और तीन बसपा से जुड़े हुए थे. इनके अलावा एक-एक आरोपित कांग्रेस और राजद के भी पूर्व सांसद है. साल 2005 में एक स्टिंग ऑपरेशन सामने आया था. इसमें इन आरोपितों द्वारा सवाल पूछने के बदले पैसे लेने की की बात सामने आई थी. इसके बाद इन सबकी सदस्यता रद्द कर दी गई थी.

राजस्थान : राजसमन्द मामले में आरोपित गिरफ्तार, मानवाधिकार आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया

राजस्थान के राजसमन्द में कथित लव जिहाद को लेकर एक व्यक्ति को जिंदा जला देने पर राज्य मानवाधिकार आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया है. राजस्थान पत्रिका में छपी एक खबर के मुताबिक आयोग के अध्यक्ष प्रकाश टाटिया ने इस घटना पर कहा, ‘मानव रचयिता की सर्वश्रेष्ठ कृति है. इस कथन का अब औचित्य खत्म हो चुका है. पशु, लोगों द्वारा मानव अधिकार हनन के क्रूरतम प्रकरणों से खुश तो नहीं होंगे. हालांकि यह कहने का अधिकार रखते हैं कि पशु भाग्यशाली है कि वे मानव नहीं हैं.’ उधर, इस मामले में आरोपित और घटना का वीडियो बनाने वाले उसके नाबालिग भांजे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

सरकार के श्रम सुधारों पर पीछे हटने की संभावना

देश में मजदूर संगठनों और विपक्ष के श्रम सुधार के खिलाफ मुखर होने को देखते हुए सरकार इससे जुड़े प्रस्तावों से पीछे हट सकती है. बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट की मानें तो इन प्रस्तावों में अधिक कर्मचारियों वाले कारखानों को सरकार से मंजूरी लिए बिना कामगारों को रखने और निकालने की अनुमति देने का प्रावधान है. इससे पहले केंद्र सरकार ने कोड ऑन इंडस्ट्रियल रिलेशंस विधेयक में कहा था कि 300 कामगारों तक क्षमता वाले कारखानों को सरकार की मंजूरी के बिना छंटनी करने, कामगारों को नौकरी से निकालने या कारखाना बंद करने की अनुमति होगी. मौजूदा नियमों के मुताबिक 100 कामगारों तक की क्षमता वाले कारखाने ऐसा कर सकते हैं. बीते महीने 10 केंद्रीय मजदूर संगठनों ने अपनी मांगों और प्रस्तावित श्रम सुधारों के खिलाफ संसद के बाहर तीन दिन तक विरोध प्रदर्शन किया था.

आज का कार्टून :

कथित लव जिहाद पर द हिंदू में प्रकाशित आज का कार्टून :