प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के बयान पर विवाद जारी है. वित्त मंत्री और भाजपा नेता अरुण जेटली ने कहा है कि मणिशंकर अय्यर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘नीच’ कहना जानबूझकर दिया गया एक जातिवादी बयान है. अरुण जेटली ने यह भी कहा कि मणिशंकर अय्यर कांग्रेस ने एक रणनीति के तहत पार्टी से निलंबित किया है. उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे कांग्रेस के इस खेल को समझें. अरुण जेटली के मुताबिक कांग्रेस नेता का बयान इस मानसिकता को दिखाता है कि इस देश पर केवल एक ही परिवार राज कर सकता है.

गुरुवार को मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘नीच आदमी’ बोलते हुए उन पर गंदी राजनीति करने का आरोप लगाया था. उससे पहले प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर डॉ बीआर आंबेडकर के देश के लिए दिए योगदान को मिटाने का आरोप लगाया था. इस प्रतिक्रिया देते हुए ही मणिशंकर अय्यर ने विवादित टिप्पणी की थी.

अरुणट जेटली से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस टिप्पणी को लेकर कांग्रेस को घेरा था. सूरत में आयोजित एक रैली में उन्होंने कहा, ‘क्या यह गुजरात की अस्मिता का अपमान नहीं है? क्या यह भारतीय चरित्र का अपमान नहीं है? वे मुझे नीच जाति का कह सकते हैं. हां, मैं समाज के गरीब तबके से आता हूं और अपने जीवन का हर पल गरीब, दलित, आदिवासियों और पिछड़े वर्गों की की सेवा में लगाऊंगा.’

मणिशंकर अय्यर के बयान के चलते किसी भी संभावित राजनीतिक नुक़सान को देखते हुए कांग्रेस पार्टी तुरंत बचाव की मुद्रा में आ गई थी. इस बयान के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘भाजपा और प्रधानमंत्री हमेशा कांग्रेस पार्टी के लिए खराब भाषा का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन कांग्रेस की संस्कृति अलग है. प्रधानमंत्री के लिए मणिशंकर अय्यर ने जिस भाषा का इस्तेमाल किया मैं उसका समर्थन नहीं करता. मैं और कांग्रेस पार्टी उनसे उम्मीद करते हैं कि वे माफी मांगें.’ राहुल गांधी की फटकार के बाद अय्यर ने भी माफी मांगी. बाद में उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया.