चुनाव आयोग में एआईएडीएमके (अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम) के चुनाव चिन्ह की लड़ाई हारने के बाद अब तमिलनाडु की इस सत्ताधारी पार्टी से निष्कासित नेता टीटीवी दिनाकरण का ‘हैट’ भी छिन गया है. इसकी जगह उनके हाथ में ‘प्रेशर कुकर’ आ गया है.

द हिंदू के मुताबिक गुरुवार को दिनाकरण ने चुनाव आयोग से मांग की थी कि पूर्व में उनके लिए आवंटित चुनाव चिन्ह (हैट) उन्हें फिर दिया जाए. लेकिन आयोग की आेर से उन्हें सूचित किया गया कि ‘हैट’ चुनाव चिन्ह एनकेएमके (नमातू कोंगू मुनेत्र कड़गम) के उम्मीदवार एम रमेश को आवंटित हो चुका है. एनकेएमके पंजीकृत दल है. इसके बाद निर्दलीय दिनाकरण को 160 अन्य चुनाव चिन्हों में से कोई एक चुनने को कहा गया. इसमें उन्होंने ‘प्रेशर कुकर’ चुना.

बताते चलें कि पिछली बार मार्च-अप्रैल में जब राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री (दिवंगत) जयललिता के आरके नगर विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव कराने की कोशिश की गई थी तब दिनाकरण को ‘हैट’ चुनाव चिन्ह मिला था. उस समय एआईएडीएमके के चुनाव चिन्ह (दो पत्ती) का विवाद निर्वाचन आयोग में लंबित था. इसलिए आयोग ने विवाद में उलझे दोनों गुटों (दिनाकरण की अगुवाई वाला एआईएडीएमके-अम्मा और ओ पन्नीरसेल्वम के नेतृत्व वाला एआईएडीएमके-पुराची थलावी अम्मा) को अलग-अलग दल माना. साथ ही दोनों को अलग चुनाव चिन्ह आवंटित किए थे.

उस वक्त दिनाकरण अपने गुट की ओर से आरके नगर सीट पर प्रत्याशी थे. मगर उन पर मतदाताओं को करीब 100 करोड़ रुपए की रिश्वत देने के आरोप लगने के बाद चुनाव आयोग ने आरके नगर उपचुनाव रद्द कर दिया था. हालांकि अब जबकि 21 दिसंबर को फिर इस सीट पर उपचुनाव की घोषणा हुई है तो दिनाकरण नए चुनाव चिन्ह (प्रेशर कुकर) के साथ मैदान में हैं. वहीं अधिकृत एआईएडीएमके (मुख्यमंत्री ईके पलानिसामी और उपमुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम के नेतृत्व में) ने ‘दो पत्ती’ वाले मूल चुनाव चिन्ह के साथ पार्टी के प्रेसीडियम चेयरमैन ई मधुसूदनन को उम्मीदवार बनाया है.

मधुसूदनन के पक्ष में पार्टी के दोनों प्रमुख नेताओं- पलानिसामी और पन्नीरसेल्वम ने गुरुवार से औपचारिक प्रचार भी शुरू कर दिया है. खुली जीप में दोनों नेताओं ने चेन्नई के हरिनारायण पुरम जंक्शन में पार्टी के चुनाव कार्यालय का उद्घाटन किया और प्रचार शुरू किया. इस मौके पर मुख्मयंत्री पलानिसामी ने कहा, ‘अम्मा (जयललिता) हमेशा से यहीं (हरिनारायण पुरम) से ही प्रचार शुरू करती थीं. हम उन्हीं के पदचिन्हों पर चल रहे हैं इसलिए हमने भी यहीं से प्रचार शुरू किया है. हम लोगों से अपील करते हैं कि आठ महीने बाद वापस मिली जादुई ‘दो पत्तियों’ का बटन दबाकर पार्टी प्रत्याशी को जिताएं. ताकि यह जीत अम्मा को समर्पित की जा सके.’

दूसरी तरफ दिनाकरण ने भी अपना प्रचार अभियान शुरू किया. शुरुआत में वे देसिंगु नगर और चेरियन नगर जैसी बस्तियों में गए. यहां उन्होंने मतदाताओं से वादा किया कि अगर वे जीते तो लोगों को उनके घरों का पट्‌टा दिलवाएंगे. उन्होंने नए चुनाव चिन्ह (प्रेशर कुकर) के बारे में भी कहा, ‘यह मैंने इसलिए चुना ताकि विरोधियों को दबाव (प्रेशर) का अहसास करा सकूं.’ ग़ौरतलब है कि आरके नगर सीट पर कुल 59 प्रत्याशी हैं. इनमें डीएमके की ओर से मरुदु गणेश और भारतीय जनता पार्टी के कारू नागराजन भी प्रमुख प्रत्याशियों में शुमार हैं.