क्या कोई मोबाइल गेम किसी को हत्या करने के लिए उकसा सकता है? ग्रेटर नोएडा में हुई हत्या की एक घटना से यह सवाल खड़ा हो गया है. यहां एक सोसायटी में अपनी मां और छोटी बहन की हत्या के आरोपित लड़के को लेकर कहा जा रहा है कि उसे एक हिंसक मोबाइल गेम खेलने की लत थी. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक मामले की जांच कर रहे अधिकारियों ने आरोपित के पिता के हवाले से बताया कि आरोपित ‘हाई स्कूल गैंगस्टर एस्केप’ नाम का मोबाइल गेम खेलता था. पुलिस का कहना है इस गेम में काफी ज्यादा हिंसा है और हो सकता है लड़का इससे प्रभावित हो.

गुरुवार को पुलिस की पूछताछ में लड़के के पिता ने पुलिस को बताया कि उनका बेटा ज़्यादातर वक्त यही गेम खेलकर बिताता था. उन्होंने कहा कि वे पिछले दो महीनों से लड़के को अपनी मां के फोन पर गेम खेलते देख रहे थे. उन्होंने बताया कि सितंबर में लड़के की मां ने उसका फोन छीन लिया था. मामले की जांच कर रहे नोएडा पुलिस के अधिकारी अजय कुमार शर्मा ने बताया, ‘लड़के के पिता ने हमें बताया कि वह ज्यादातर वक्त गेम खेलता रहता था. उसकी पढ़ाई में बिलकुल रुचि नहीं थी.’ अजय शर्मा ने यह भी बताया कि पिता ने अपने बेटे से इस गेम के बारे में पूछा था. उसने बताया था कि यह एक क्राइम-थ्रिलर गेम है और उसे पसंद है. उन्होंने कहा, ‘पिता की बात से संकेत मिल रहा है कि हो सकता है हत्या के पीछे इस गेम का असर हो. हमने गेम के बारे में पता किया है. इसमें कोई अपराध करके बच निकलना होता है. आशंका है कि गेम के असर में वह ऐसे और अपराध कर सकता है.’

लड़के का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है. पुलिस ने बताया कि उसके पास उसकी मां का फोन है जो फिलहाल बंद है और अभी तक उसकी लोकेशन का पता नहीं चल पाया है. पुलिस के मुताबिक वह घर के लॉकर में रखे दो लाख रुपये भी ले गया है. उधर, गुरुवार को आई पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट से साफ हो गया है कि महिला और उसकी बेटी को जहर नहीं दिया गया था. पुलिस के मुताबिक रिपोर्ट में मौत की वजह सिर में लगी चोट बताई गई है. इस बीच लड़के को पकड़ने के लिए उसकी तस्वीर और जानकारियों के पोस्टर कई जगहों पर लगाए गए हैं. पुलिस ने उसकी जानकारी देने वाले को इनाम देने की भी घोषणा की है.