मध्य प्रदेश के सागर शहर में दो व्यक्तियों द्वारा 15 साल की लड़की के साथ कथित तौर पर बलात्कार करने और फिर उसे जिंदा जलाने का मामला सामने आया है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक सागर के पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ला ने बताया कि एक आरोपित को गिरफ्तार किया जा चुका है, वहीं दूसरे को पकड़ने के लिए तीन टीमें बनाई गई हैं. उन्होंने यह भी कहा कि पीड़ित लड़की का स्थानीय अस्पताल में इलाज चल रहा है, जहां उसकी तबियत अभी स्थिर है.

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आकंड़ों को देखें तो मध्य प्रदेश महिलाओं के लिए लगातार असुरक्षित बना हुआ है. एनसीआरबी के मुताबिक 2016 में मध्य प्रदेश में बलात्कार की सबसे ज्यादा घटनाएं सामने आई थीं. राष्ट्रीय स्तर पर दर्ज बलात्कार के 38,947 मामलों में से 4,882 मामले अकेले मध्य प्रदेश से थे.

इस बीच सोमवार को मध्य प्रदेश विधानसभा ने आम राय से 12 साल या इससे कम उम्र के बच्चों के साथ बलात्कार करने के दोषियों को फांसी या कम से कम 14 साल की जेल या आजीवन कारावास की सजा देने का विधेयक पारित किया है. इसमें लड़कियों का पीछा करने और शादी के नाम पर यौन शोषण करने जैसे अपराधों के लिए भी सख्त सजा का प्रावधान किया गया है. अब इस विधेयक को मंजूरी के लिए केंद्र सरकार और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेजा जाएगा.