इस कॉलम के तहत पिछले आलेख में हमने विटामिनों पर बात करते समय विटामिन बी12 के बारे में बस थोड़ी सी ही चर्चा की थी. अब उसी महत्वपूर्ण चर्चा को हम यहां आगे बढ़ाते हैं.

विटामिन बी12 हमारे शरीर की तमाम सेल्स, चाहे वे हमारी चमड़ी में हों, आंत में या मुंह में, की कार्यप्रणाली के लिए यह जरूरी विटामिन है. इन सभी सेल्स का नियंत्रण इनमें स्थित न्यूक्लियस के डीएनए और आरएनए द्वारा होता है. और इनके लिए यह एक अनिवार्य विटामिन है. बी12 न मिले तो यह न्यूक्लियस काम ही नहीं करेगा, इसीलिए इसकी कमी हो तो हर सेल ठीक से काम करना बंद कर देगी.

यही विटामिन बी12 हमारे नर्वस सिस्टम की कार्यप्रणाली को दुरुस्त रखने का काम भी करता है. यानी यह मस्तिष्क और शरीर की सारी तंत्रिकाओं में करंट के बहने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है. तभी अगर इस विटामिन की कमी हो जाए तो हमें कई न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम पैदा हो सकती हैं. फिर विटामिन बी12 उन सेल्स के मैच्योर होने में भी बहुत जरूरी कारक है जो हमारी हड्डियों में रहकर रक्त बनाते हैं. इसीलिए शरीर में बी12 न हो तो हमें एक अलग ही किस्म का एनीमिया हो सकता है जिसे मेगालोब्लास्टिक एनीमिया कहते हैं.

इस विटामिन का बेहद जरूरी संगी-साथी फॉलिक एसिड होता है. यह भी इन सारे कामों में बराबर का रोल अदा करता है. इसीलिए कई बार तो शरीर में बी12 की मात्रा ठीक-ठाक भी रही हो लेकिन यदि फॉलिक एसिड की कमी हो जाए तब भी वे बीमारियां आ सकती हैं जो आमतौर पर बी12 की कमी से हुई मानी जाती हैं.

दरअसल ये दोनों विटामिन एक संगत में काम करते हैं. इसीलिए डॉक्टर भी विटामिन बी12 की कमी वाले मरीज को अकेला बी12 न देकर हमेशा इसे फॉलिक एसिड के साथ ही देते हैं.

विटामिन बी12 केवल मांस, मछली, दूध और पनीर से ही प्राप्त होता है. यह न तो हरी सब्जियों में होता है, न फलों में, जैसा कि हमें प्राय: गलतफहमी रहती है. हां फॉलिक एसिड लगभग हर भोज्य पदार्थ में मौजूद होता है – सारी सब्जियों में और फलों में. मीट-मछली में भी यह पाया जाता है. परंतु इनकी दिक्कत यह है कि इन्हें देर तक गर्म करने पर इनका फॉलिक एसिड नष्ट हो जाता है.

तो वे शाकाहारी लोग जो दूध, दही या पनीर भी नहीं लेते या नहीं ले पाते या बस कभी-कभी ही लेते हैं, उनमें विटामिन बी12 की कमी पैदा हो जाना एक आम स्वास्थ्य समस्या है. हमारे देश में एक बड़ी आबादी शाकाहारी है और अगर वह दूध-दही या पनीर भी नहीं लेती तो उसके लिए विटामिन बी12 की कमी का खतरा हमेशा रहता है. इसकी कमी के लक्षण अचानक सामने नहीं आते. बल्कि इसका तो अक्सर पता ही नहीं चल पाता क्योंकि डॉक्टर तक इस बारे में उस तरह से नहीं जानते या सोच पाते. इसी चक्कर में न जाने कितने विटामिन बी12 की कमी वाले लोगों का हमारे यहां डायग्नोसिस नहीं हो पाता.

क्या सिर्फ जरूरी भोजन की कमी से ही विटामिन बी12 की कमी हो सकती है?

ऐसा नहीं है. कई बार विटामिन बी12 और फॉलिक एसिड युक्त भोजन लेने के बाद भी शरीर में इनकी कमी हो सकती है. क्योंकि हो सकता है यह सब आपके शरीर में तो जा रहा हो लेकिन आपकी आंतों में न के बराबर पच पाता हो. एट्राफिक गैस्ट्राइटिस और परनीसियस एनीमिया जैसी जटिल बीमारियों में यह हो सकता है. ऐसे में बी12 की कमी हो सकती है. यही स्थिति पेट के ऑपरेशन में आंत का कुछ हिस्सा निकाल देने के बाद भी हो सकती है और आंतों में सूजन की बीमारी (इनफ्लेमटरी वाली बीमारियां) में भी.

शरीर में कभी-कभी फॉलिक एसिड की मांग जरूरत से बहुत ज्यादा बढ़ जाती है. ऐसा अमूमन गर्भवती स्त्रियों और नियमित डायलिसिस वाले मरीजों के साथ होता है. साथ ही गठिया आदि बीमारियों के लिए कुछ विशेष दवाइयां देने पर भी शरीर में फॉलिक एसिड की गंभीर कमी हो जाती है. इसलिए इन सारी स्थितियों में डॉक्टर पहले फॉलिक एसिड की गोलियां भी दे देता है.

इन विटामिनों की कमी कैसे पहचानें?

कई ऐसी स्थितियां हैं जिनमें हमें इन विटामिनों की कमी का संदेह होना चाहिए. जैसे –

1. अगर हमें खून की ऐसी कमी (एनीमिया) हो जाए जो सामान्य तौर पर दिए जाने वाले आयरन कैप्सूल लेने से ठीक न हो पा रही हो

2. यदि हमें बहुत थकान लगती हो लेकिन आम जांचों द्वारा भी जिसका कोई कारण साफ न हो पा रहा हो

3. यदि हाथ-पांव में अकारण झुनझुनी होती हो

4. यदि मुंह में बार-बार छाले आ जाते हों

5. यदि हमारी जीभ के दाने सपाट होकर वह सपाट जैसी हो गई हो

6. यदि हमारे होंठ किनारे से कट-पिट जाते हों

7. यदि हमारी भूख खत्म हो रही हो और इसका कोई साफ कारण न मिल रहा हो

8. यदि स्मरण शक्ति कम हो रही हो और लगभग डिमेंशिया जैसी स्थिति पैदा हो रही हो

9. यदि किसी को ऐसा एनीमिया हो जिसके साथ हल्का पीलिया भी रहता हो.

10. यदि चमड़ी का रंग पीला सा होता जा रहा हो

11. यदि चलने में लड़खड़ाहट होती हो, गिरने का डर लगता हो

12. यदि बार-बार दस्त लगते हों और वे ठीक न हो रहे हों.

तो आपने यहां देखा कि ऐसी बहुत सी स्थितियां बनती हैं जिन्हें हम सामान्य कमजोरी मानकर छोड़ देते हैं, वे बी12 कमी से हो सकती हैं. ऐसी आशंका हो तो खून की एक मात्र जांच से इसका पता लगाया जा सकता है. और पता चल जाए तो फिर आसानी से इलाज भी संभव है.

इसके साथ यह भी याद रहे कि फॉलिक एसिड की कमी के कारण औरतों में बांझपन और नवजात शिशु में पैदाइशी होंठ या तालू कटा हुआ भी हो सकता है या न्यूरल डक्ट डिफेक्ट (मस्तिष्क या तंत्रिकातंत्र से जुड़ी बीमारियां) के साथ भी बच्चा पैदा हो सकता है.

विटामिन बी12 की कमी हो जाए तो क्या करें?

सतर्क रहें. किसी डॉक्टर से पूरा इलाज लें. यह इलाज कई बार जीवनभर चलाने की आवश्यकता भी होती है.