दमदार बाइकें बनाने के लिए पहचाने जाने वाली रॉयल इनफील्ड की 15 लिमिटेड स्टैल्थ ब्लैक क्लासिक-500 मोटरसाइकिलों को ग्राहकों ने ऑनलाइन सेल ओपन होने के 15 सेकंड से कम समय में खरीद कर एक रिकॉर्ड स्थापित किया है. यह सेल इस बुधवार दोपहर 12 बजे से शुरु हुई थी. नए कलर पैटर्न के अलावा जो बात इन बाइकों को विशेष बनाती है वह यह कि इनका इस्तेमाल नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (एनएसजी) के जवानों ने फाइट अगेंस्ट टेरर (आतंक के खिलाफ जंग) प्रोजेक्ट के दौरान किया था. इस दौरान एनएसजी के जवानों ने इन बाइकों से 40 दिनों में 8000 किलोमीटर की यात्रा तय की थी. इस प्रोजेक्ट का अहम हिस्सा होने की वजह से इन सभी बाइकों पर एनएसजी का चिह्न लगाया गया है जो इन्हें बाजार में उपलब्ध रॉयल इनफील्ड की अन्य बाइकों से ज्यादा खास बनाता हैं.

इन बाइकों के बारे में ज्यादा जानकारी देते हुए रॉयल इनफील्ड के प्रेसिडेंट रुद्रतेज सिंह ने कहा, ‘सशस्त्र सेना बल के साथ हमारी लंबे समय से साझेदारी है. हम उन लोगों का समर्थन करने के लिए हमेशा तत्पर हैं जो हमारी रक्षा करते हैं.’ एनएसजी पिछले 33 साल से लोगों के बीच इस तरह से जागरुकता फैलाने के लिए बाइकों का उपयोग करते रहे हैं.

इन बाइकों के लिए कंपनी ने 1.90 लाख रुपए की कीमत तय की थी. जिन ग्राहकों ने इन बाइकों को खरीदा है उन्हें फिलहाल 15 हजार रुपए बतौर टोकन मनी चुकाने पड़े हैं. पूरी कीमत देने पर जल्द ही उन्हें ये बाइकें उनके नजदीकी डीलरशिप पर उपलब्ध करवा दी जाएंगी. रॉयल इनफील्ड के मुताबिक इन बाइकों से मिली धनराशि को दिव्यांग बच्चों के लिए चलाई जा रही पहल प्रेरणा में लगाया जाएगा.

भारत में दुनिया की सबसे तेज कार लॉन्च

लग्जरी कारें बनाने के लिए पहचानी जाने वाली इटैलियन कंपनी मसेराती ने इस सप्ताह भारत में अपनी नई सेडान क्वाट्रोपोर्टे जीटीएस को लॉन्च कर दिया है. कंपनी का दावा है कि यह दुनिया की सबसे तेज चलने वाली कार है. जानकारों के मुताबिक मसेराती ने इस कार के 2018 एडिशन को कई स्टाइल अपग्रेड के साथ नए आकर्षक फीचर्स से लेस किया है. क्वाट्रोपोर्टे जीटीएस-2018 को कंपनी ने सबसे पहले फ्रैंकफर्ट मोटर शो के दौरान पेश किया था. खबरों के अनुसार भारत में इस कार की डिलिवरी दूसरे देशों के साथ ही की जाएगी.

मसेराती ने इस कार के दो मॉडल- ग्रैनलुसो और ग्रैनस्पोर्ट बाजार में पेश किए हैं. क्वाट्रोपोर्टे जीटीएस में कंपनी ने 3.8 लीटर का ट्विन-टर्बो इंजन इस्तेमाल किया है जो 6800 आरपीएम पर 522 बीएचपी की पॉवर और 3500 आरपीएम पर 710 एनएम का अधिकतम टॉर्क पैदा करता है. कंपनी ने इस इंजन को 8-स्पीड जेडएफ ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन से लैस किया है. यह कार महज 4.7 सेकंड में 0 से 100 किमी/घंटा की स्पीड पकड़ने में सक्षम है और इसकी अधिकतम रफ्तार 310 किमी/घंटा है. भारत में इस कार के लिए कंपनी ने 2.7 करोड़ रुपए की कीमत तय की है. यहां इसका मुकाबला एस्टन मार्टिन रैपिड और पॉर्श पानामेरा जैसी कारों से हो सकता है.

नए साल में कई कारों की कीमतों में इजाफा

देश की प्रमुख कार निर्माता कंपनी मारुति-सुज़ुकी नए साल में अपनी सभी कारों की कीमतों में इजाफा कर सकती है. खबरों के मुताबिक यह वृद्धि दो प्रतिशत तक होगी. कंपनी प्रवक्ता ने एक साक्षात्कार में इस बात की पुष्टि करते हुए कार निर्माण में बढ़ रही लागत को इसके लिए जिम्मेदार बताया. उनका कहना था, ‘कार को बनाने में जिस सामग्री का इस्तेमाल होता है उसमें लगातार वृद्धि हो रही है. अभी तक इसका भारत कंपनी खुद उठा रही थी लेकिन अब ग्राहकों को भी इसका साझेदार बनना होगा.’ इस समय बाजार में मारुति की ऑल्टो-800 जैसी हैचबैक से लेकर एसक्रॉस जैसी एसयूवी और अर्टिगा जैसी एमयूवी तक बड़ी रेंज मौजूद है.

मारुति के अलावा देश की अन्य वाहन निर्माता कंपनियों ने भी बदलती अर्थव्यवस्था और लागत मूल्यों मे बढ़ोतरी के चलते अपनी कारों की कीमत में बढ़ोतरी की घोषणा की है. स्कोडा, टाटा मोटर्स और टोयोटा पहले ही अपनी कारों के दाम बढ़ाने की बात कह चुकी हैं और अब महिंद्रा और फॉक्सवैगन भी इसी कड़ी में शामिल हो गई हैं. मिली जानकारी के अनुसार जहां महिंद्रा ने अपनी सभी कारों की कीमतों में तीन प्रतिशत की बढ़ोतरी का निर्णय लिया है वहीं फॉक्सवैगन ने अपनी सभी कारों के दामों में 20 हजार रुपए तक का इज़ाफा किया है. फॉक्सवैगन के यात्री कार के निदेशक स्टीफन नेप ने कीमतों में बढ़ोतरी को स्वभाविक बताते हुए कहा कि कई पहलुओं को देखते हुए भारत में कारों की कीमतों में बदलाव तय था.