अमेरिका ने इस साल हुए वान्नाक्राई साइबर अटैक के लिए उत्तर कोरिया को जिम्मेदार बताया है. इस साइबर हमले में हैकरों ने दुनियाभर के अस्पतालों, बैंकों और कई दूसरी कंपनियों के कंप्यूटर सिस्टम को हैक कर लिया था. एनडीटीवी के मुताबिक सोमवार को वॉल स्ट्रीट जनरल (ऑनलाइन) में प्रकाशित हुए एक लेख में वाइट हाउस के होमलैंड सिक्यॉरिटी अडवाइजर टॉम बॉसर्ट ने कहा, ‘यह व्यापक साइबर हमला था जिसने अरबों का नुकसान किया. उत्तर कोरिया इसके लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार है.’

टॉम ने कहा कि अमेरिका को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति को जवाबदेह ठहराया जाएगा. हालांकि उन्होंने यह नहीं लिखा कि साइबर हमले को लेकर अमेरिका उत्तर कोरिया पर क्या कार्रवाई करने जा रहा है. उन्होंने लिखा कि अमेरिका ज्यादा से ज्यादा दबाव बनाने की रणनीति पर काम करता रहेगा.

इस साल मई में 150 देशों के तीन लाख कंप्यूटरों को एक साथ हैक कर लिया गया था. ब्रिटेन की सरकार और कई सुरक्षा विशेषज्ञों ने पहले ही इस हमले के पीछे उत्तर कोरिया का हाथ होने की बात कही थी. यह हमला रैनसमवेयर साइबर अटैक की तर्ज पर किया गया था जिसमें हैकर्स किसी कंप्यूटर सिस्टम को ब्लॉक कर लेते हैं और फिर फाइलों की रिकवरी के लिए संस्थानों से पैसे की मांग करते हैं.