देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति-सुज़ुकी ने नया कीर्तिमान स्थापित किया है. इस बुधवार मारुति का शेयर जबरदस्त तेजी के साथ रिकॉर्ड दस हजार के स्तर पर पहुंच गया. इसके चलते कंपनी का बाजार पूंजीकरण 3.01 लाख करोड़ रुपए हो गया. यह आंकड़ा छूने वाली मारुति देश की पहली वाहन कंपनी है. इस स्तर को हासिल करने के बाद मारुति सुज़ुकी का बाजार पूंजीकरण अपनी पेरेंटल कंपनी सुज़ुकी के मुकाबले तकरीबन दो गुना हो गया है. जानकारी के अनुसार सुज़ुकी मोटर्स भारत के अलावा अमेरिका, जापान, ताईवान, पाकिस्तान, इंडोनेशिया, थाईलैंड और हंगरी में भी साझे में कई कंपनियां चला रही है. लेकिन खबरों के अनुसार जिस तेजी से सुज़ुकी ने भारत में ग्रोथ हासिल की है वैसा किसी और देश में देखने को नहीं मिला है.

इस साल अप्रवासी कामगारों को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सख़्त नीतियों के चलते आईटी सेक्टर में भारी उठापटक रही. इसके चलते इस क्षेत्र की अधिकतर प्रमुख कंपनियों के शेयरों में खासी गिरावट देखने को मिली थी. वहीं दूसरी तरफ मारुति की कारों को बाजार से मिल रही जबरदस्त प्रतिक्रिया के चलते मारुति का बाजार पूंजीकरण पिछले तीन साल में 57,939 करोड़ से बढ़कर तीन लाख करोड़ रु हो गया है. इससे पहले मई में मारुति-सुजुकी का मार्केट कैप दो लाख करोड़ रु से ऊपर पहुंच गया था.

पिछले कुछ सालों की बात करें तो ऑटो कारोबार में जबरदस्त बढ़ोतरी देखी गयी है. इस दौरान पैसेंजर गाड़ियों की बिक्री सबसे ज्यादा हुई है. मारुति की बात करें तो 2013-14 में कंपनी के 25.03 लाख वाहन बिके थे जबकि 2016-17 में यह संख्या बढ़कर 30.46 लाख यूनिट पहुंच गयी.

थाईलैंड में इलेक्ट्रिक बुलेट तैयार

भारत सहित दुनियाभर में इलेक्ट्रिक वाहनों पर निर्भर होने की कवायद के बीच थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में इलेक्ट्रिक बुलेट को शोकेस किया गया है. वहां किसी ने रॉयर इनफील्ड क्लासिक-500 के सिंगल सिलेंडर इंजन को इलेक्ट्रिक मोटर से बदल दिया. हालांकि यह कारनामा किस कंपनी की तरफ से किया गया है इसके बारे में ज्यादा जानकारी हासिल नहीं हो पाई है. लेकिन इसे इलेक्ट्रिक बाइक बनाने वाले ने चेसी को छोड़कर इसकी मूल डिजाइन में कोई खास बदलाव नहीं किया है.

खबरों के मुताबिक इस ई-बुलेट में अब तक जो सिस्टम चेन से चलता था उसे बदलकर बेल्ट पर आधारित कर दिया गया है. बाइक के इंस्ट्रुमेंटल क्लस्टर की जगह ऑल डिजिटल डिस्पले लगाया गया है. अभी तक यह भी साफ नहीं हो पाया है कि इस बाइक की मोटर का आकार, ताकत और बैटरी आउटपुट कितना होगा. लेकिन इस बाइक से वह एक्जहॉस्ट नदारद दिखा जो रॉयल इनफील्ड की पहचान बन चुका है. हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब रॉयल इनफील्ड की किसी बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक में बदल गया हो. इससे पहले यूनाइटेड किंगडम में भी एक व्यक्ति ने अपनी बुलेट को इलेक्ट्रिक रूप दे दिया था.

लैंडरोवर की एसयूवी डिस्कवरी का नया अवतार लॉन्च

टाटा मोटर्स की ब्रिटिश कंपनी लैंडरोवर ने भारत में अपनी एसयूवी डिस्कवरी का नया अवतार स्पोर्ट लॉन्च कर दिया है. लैंड रोवर के एसयूवी लाइन-अप में डिस्कवरी ने फ्रीलैंडर को रिप्लेस किया है और यह कार कंपनी की सबसे सस्ती एसयूवी में से एक है. भारत में इस कार की एक्सशोरूम कीमत 42.48 लाख रुपए तय की गई है.

खबरों के मुताबिक कंपनी ने अपनी इस नई कार को ऐसे कई फीचर्स से नवाजा है जो ग्राहकों को अपनी तरफ आकर्षित कर सकते हैं. लैंडरोवर ने डिस्कवरी स्पोर्ट में इन कंट्रोल प्रो सिस्टम और वाईफाई हॉटस्पॉट दिया है जो कार में कई सारे कनेक्टिविटी फीचर्स को सपोर्ट करता है. इनके अलावा कंपनी ने इस कार में 3-डी मैप, मेरिडियन सराउंड ऑडियो सिस्टम जैसे फीचर्स भी जोड़े हैं.

इस मौके पर जगुआर लैंडरोवर इंडिया के अध्यक्ष और निदेशक रोहित सूरी ने जानकारी देते हुए बताया, ‘2018 मॉडल डिस्कवरी स्पोर्ट को और भी ज्यादा फीचर्स से लैस किया गया है. इससे हमारे तकनीक पसंद ग्राहकों को और भी बेहतर कनेक्टिविटी मिल सकेगी.’

जानकारी के अनुसार लैंड रोवर ने डिस्कवरी-2018 में सिर्फ डीज़ल इंजन देते हुए इसे पेट्रोल वेरिएंट में लॉन्च नहीं किया है. 2.0 लीटर क्षमता वाला यह इंजन कार के बेसिक और टॉप मॉडल्स में अलग-अलग पॉवर जनरेट करता है. एसयूवी के एसई मॉडल में लगा इंजन 147 बीएचपी पॉवर के साथ 382 एनएम का अधिकतम टॉर्क उत्पन्न करता है. वहीं कार के टॉप मॉडल एचएसई लग्ज़री में लगा यही इंजन 177 बीएचपी और 430 एनएम का अधिकतम टॉर्क पैदा करता है. कंपनी ने 2018 डिस्कवरी स्पोर्ट के दोनों मॉडल्स में 9-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के साथ ऑल-व्हील ड्राइव दिया है.