प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को दिल्ली मेट्रो की मजेंटा लाइन के पहले चरण का उद्घाटन किया. यह दक्षिणी दिल्ली के कालिकाजी को नोएडा के बॉटेनिकल गार्डन से जोड़ेगा. इस कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ, राज्यपाल राम नाईक और अन्य नेता मौजूद रहे. लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को निमंत्रण ही नहीं दिया गया था.

वहीं, दिल्ली मेट्रो के कार्यक्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री को न बुलाने पर सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप) की तीखी प्रतिक्रिया आई है. ‘आप’ नेता संजय सिंह ने कहा कि यह केंद्र की अरविंद केजरीवाल के प्रति ईष्या को जाहिर करता है. उन्हें इसे केंद्र सरकार की ‘घटिया सोच’ भी बताया. संजय सिंह के मुताबिक ऐसा पहली बार नहीं हुआ है, इससे पहले फरीदाबाद कॉरिडोर के उद्धाटन के समय भी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को नहीं बुलाया गया था.

दिल्ली मेट्रो की मजेंटा लाइन की कुल लंबाई 38.23 किमी होगी. हालांकि, 12.6 किमी लंबे इसके पहले चरण में वॉयलेट लाइन के कालकाजी मंदिर स्टेशन को ब्लू लाइन के बॉटेनिकल गार्डन स्टेशन से जोड़ा गया है. वहीं, इसके दूसरे चरण में कालकाजी मंदिर स्टेशन को पश्चिमी दिल्ली के जनकपुरी मेट्रो स्टेशन से जोड़ा जाएगा. मजेंटा लाइन की एक खासियत यह भी है कि आने वाले वर्षों में इस पर ड्राइवर रहित ट्रेनों का संचालन किया जाएगा.