‘उत्तर प्रदेश की फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीट पर उपचुनाव बैलेट पेपर से होना चाहिए.’

— अखिलेश यादव, सपा के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का यह बयान इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की विश्वसनीयता पर सवाल उठाते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘लोगों का स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव में भरोसा है. लेकिन ईवीएम को लेकर कई शंकाएं हैं.’ अखिलेश यादव ने आगे कहा कि ईवीएम की वजह से लोगों का भरोसा टूट रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि ईवीएम को लेकर शिकायतें लंबित हैं जो लोकतंत्र के लिए अच्छा संकेत नहीं है. उत्तर प्रदेश में संपन्न स्थानीय निकाय चुनाव में विपक्षी दलों ने आरोप लगाया था कि जिन जगहों पर ईवीएम का इस्तेमाल नहीं हुआ था, वहां भाजपा का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा.

‘लालू जी भाजपा के लिए राजा हरिश्चंद हो जाते, अगर उसके साथ गठबंधन कर लेते.’

— तेजस्वी यादव, राजद नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री

राजद नेता तेजस्वी यादव का यह बयान भाजपा द्वारा राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पर भ्रष्टाचार के लिए निशाना साधने के जवाब में आया. उन्होंने कहा, ‘विरोधी सोचते हैं कि जेल जाने के बाद लालू खत्म हो जाएंगे. वे बहुत बड़ी गलतफहमी में हैं. बिहार के लोग बहुत नाराज हैं. वे इसका मुकम्मल जवाब देंगे.’ तेजस्वी यादव ने आगे कहा कि इस गंदी राजनीति का श्रेय नीतीश कुमार को जाता है. बीते शनिवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो की विशेष अदालत ने चारा घोटाले के देवघर कोषागार मामले में लालू प्रसाद यादव और 14 अन्य लोगों को दोषी करार दिया था.


‘सोनिया गांधी के यूपीए अध्यक्ष रहने पर अभी तक कोई फैसला नहीं किया गया है.’

— वीरप्पा मोइली, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता

कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली का यह बयान राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने के बाद उन्हें संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की अध्यक्षता सौंपने के सवाल पर आया. उन्होंने कहा कि अभी सोनिया गांधी से ही पद पर बने रहने को कहा जा रहा है, हालांकि राहुल गांधी भी जिम्मेदारी लेने में सक्षम हैं. वीरप्पा मोइली ने आगे कहा कि यूपीए अध्यक्ष पद छोड़ने का फैसला सोनिया गांधी को करना है. उनके मुताबिक सोनिया गांधी ने 19 साल तक पार्टी का कामकाज बहुत अच्छे से देखा है और आगे भी पूरी सक्रियता से सलाह देती रहेंगी.


‘मजेंटा लाइन के उद्घाटन में अरविंद केजरीवाल को न बुलाने में कुछ भी चौंकाने वाला नहीं है.’

— सुब्रमण्यम स्वामी, भाजपा सांसद

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने यह बात दिल्ली मेट्रो की नई लाइन के उद्घाटन कार्यक्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को न बुलाने के विवाद पर आया. उन्होंने कहा, ‘यह पूरी तरह से केंद्र के पैसे से बनने वाली परियोजना है. दिल्ली सरकार की इसमें बहुत मामूली भूमिका है.’ सुब्रमण्यम स्वामी ने आगे कहा कि किसी कार्यक्रम में लोगों को बुलाया या न बुलाना केंद्र सरकार का विशेषाधिकार है. सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस नई लाइन का उद्घाटन किया था, जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ, राज्यपाल राम नाईक और अन्य नेता शामिल हुए थे.


‘रूस, उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच मध्यस्थता करने के लिए तैयार है.’

— सर्गेई लावरोव, रूस के विदेश मंत्री

रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव का यह बयान उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच जारी तनाव को लेकर आया. उन्होंने कहा कि दोनों देशों को तनाव घटाने के लिए बातचीत शुरू करनी चाहिए. वहीं, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने कहा कि तनाव घटाने के लिए दोनों देशों के बीच बातचीत का रास्ता साफ करने के लिए रूस की तत्परता स्वाभाविक है. अमेरिकी राजनयिकों का कहना है कि वे कूटनीतिक समाधान पर ध्यान दे रहे हैं. लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि किसी भी बातचीत से पहले उत्तर कोरिया को हथियार कार्यक्रम छोड़ने का वादा करना होगा.