ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में भारत का नाम दुनियाभर के सबसे तेज बढ़ते बाजारों में शुमार है. लेकिन इस साल पहले नोटबंदी, फिर बीएस-III प्रदूषण मानकों का बीएस-IV में बदलाव और उसके बाद जीएसटी के लागू होने की वजह से बाजार और अर्थव्यवस्था दोनों ही अनिश्चित रहे. इसे देखते हुए जानकारों ने वाहनों खासतौर पर कारों की बिक्री में बड़ी गिरावट की आशंका जताई. नतीजन इस वर्ष प्रमुख वाहन निर्माता कंपनियां अपने नए उत्पादों को बाजार में लाने के जोखिम से बचती दिखीं. शोरूमों में नई कारों के बजाय पुरानी कारों के ही नए अवतार ज्यादा देखने को मिले. हालांकि कुछ नाम इसके अपवाद भी रहे. यहां हम इस साल लॉन्च हुई ऐसी सात कारों की बात कर रहें हैं जो गलाकाट प्रतिस्पर्धा के बावजूद बाजार में धूम मचाने में सफल रहीं.

मारुति डिज़ायर

स्विफ्ट डिज़ायर के नए अवतार डिज़ायर को साल की ही नहीं बल्कि पिछले कुछ सालों की सबसे बड़ी लॉन्चिंग कहा जाए तो गलत नहीं होगा. लॉन्चिंग के बाद से ही स्विफ्ट डिज़ायर को ग्राहकों का खूब प्यार मिलता रहा है लेकिन इसके नए अवतार को बाजार से जितना जबरदस्त रेस्पॉन्स मिला है, उसकी उम्मीद शायद मारुति को भी नहीं थी. डिज़ायर की लोकप्रियता को इस बात से समझा जा सकता है कि लॉन्च होने के कुछ ही महिनों के भीतर यह कार अपनी ही कंपनी की ऑल्टो को पीछे छोड़कर न सिर्फ देश की सबसे ज्यादा बिकने वाली कार बनी बल्कि बाजार में आने के साढ़े पांच महीने के भीतर इसने एक लाख यूनिट की बिक्री का आंकड़ा भी पार कर लिया. जानकारों के मुताबिक इतने कम समय में इस आंकड़े तक पहुंचने वाली यह देश की पहली कार है. ऑटोमेटिक और मैनुअल दोनों ट्रांसमिशन विकल्प और जबरदस्त माइलेज के साथ 5.43 लाख रुपए जैसी शुरुआती कीमत के साथ डिज़ायर ग्राहकों की प्रमुख पसंद बनने में सफल रही है.

मारुति इग्निस

मारुति ने इग्निस को हैचबैक रिट्ज के रिप्लेसमेंट के तौर पर अपने प्रीमियम ब्रांड नेक्सा के तहत साल की शुरुआत में लॉन्च किया था. तभी से इस कार को ग्राहकों द्वारा काफी सराहा जा रहा है. आंकड़ों की मानें तो मारुति अक्टूबर तक औसतन 4318 यूनिट हर महीने के हिसाब से इग्निस की 43187 यूनिटों की बिक्री कर चुकी थी जो कि सेगमेंट के लिहाज से काफी संतोषजनक आंकड़ा है. कार की सफलता को देखते हुए मारुति ने अगस्त में कार के पेट्रोल और डीज़ल दोनों के टॉप एंड ट्रिम को ऑटोमैटिक गियर सिस्टम (एजीएस) से लैस कर उतारा था. इससे पहले यह विकल्प सिर्फ इग्निस के मिड ट्रिम वेरिएंट में ही मौजूद था.

1.2 लीटर क्षमता वाले वीवीटी पेट्रोल इंजन (82 बीएचपी - 13 एनएम) और 1.3 लीटर क्षमता वाले डीडीआईएस डीज़ल (74 बीएचपी - 190 एनएम) इंजन के साथ बाजार में इग्निस की बड़ी रेंज उपलब्ध है. कंपनी ने इस कार के लिए 4.56 लाख रुपए की शुरुआती कीमत तय की है.

टाटा नेक्सन

हैचबैक टियागो के बाद इसी साल सितंबर में लॉन्च हुई कॉम्पैक एसयूवी नेक्सन टाटा मोटर्स के लिए बड़ी राहत लेकर आई है. हालांकि शुरुआत में डर था कि कहीं कंपनी की पिछली गाड़ियों की तरह नेक्सन भी ग्राहकों को लुभाने में कामयाब हो पाएगी या नहीं. लेकिन सारी आशंकाओं को धता बताते हुए ग्राहकों ने नेक्सन को दिल खोलकर स्वीकार किया है. लॉन्चिंग के बाद से नेक्सन की हर महीने चार हजार यूनिट खरीदी जा रही हैं जिसे सेगमेंट के लिहाज से बेहतरीन प्रदर्शन कहा जा सकता है.

कंपनी ने नेक्सन को 1.2 लीटर पेट्रोल इंजन और 1.5 लीटर क्षमता वाले डीज़ल इंजन से लैस किया है. फिलहाल बाजार में नेक्सन मैनुअल गियर बॉक्स के साथ उपलब्ध है. उम्मीद है कि अगले साल जल्द ही इसका ऑटोमेटिक वेरिएंट भी देखने को मिल सकता है. कंपनी ने इस कार के लिए 5.85 लाख रुपए की आकर्षक शुरुआती कीमत तय की है.

फोर्ड इकोस्पोर्ट

देश की शुरुआती और बेहद लोकप्रिय कॉम्पैक एसयूवी कारों में शुमार इकोस्पोर्ट को फोर्ड ने पिछले महीने नए अवतार में पेश किया है. इस कार का बाजार में लंबे समय से इंतजार किया जा रहा था. लॉन्च होने के पहले महीने (अक्टूबर-नवंबर) में ही नई इकोस्पोर्ट ने चौंकाते हुए सेगमेंट में (जिसमें विटारा ब्रेजा जैसा मजबूत प्रतिद्वंदी मौजूद है) अपनी जगह बना ली है. इस दौरान इकोस्पोर्ट की 5474 यूनिट की बिक्री दर्ज की गई.

फेसलिफ्ट के बाद इकोस्पोर्ट फ्रेश लुक्स, नए फीचर्स, तीन सिलेंडर वाले 1.5 लीटर क्षमता के ड्रैगन पेट्रोल इंजन (122 बीएचपी-150 एनएम) और चार सिलेंडर वाले 1.5 लीटर टीडीसीआई डर्बो डीज़ल इंजन (98.6 बीएचपी-205 एनएम) के साथ ग्राहकोंं को खूब लुभा रही है. कंपनी ने इसके डीज़ल वेरिएंट को 5 स्पीड मैनुअल गीयरबॉक्स और पेट्रोल वेरिएंट को 6-स्पीड ऑटोमैटिक टॉर्क कन्वर्टर गियर ट्रांसमिशन बॉक्स से जोड़ा है. फोर्ड ने इस कार की शुरुआती कीमत 7.31 लाख रुपए तय की है.

होंडा डब्ल्यूआर-वी

अपनी ही हैचबैक जैज़ के प्लेटफॉर्म पर तैयार डब्ल्यूआर-वी को होंडा ने इस साल मार्च में भारत के बाजार में उतारा था. कंपनी की इस नई पेशकश में जैज़ के साथ सेडान सेगमेंट की लेजैंड कही जाने वाली सिटी, की खूबियां शुमार हैं जो इसे अपने सेगमेंट की दूसरी गाड़ियों से कहीं ज्यादा खास और एक आदर्श क्रॉसओवर बनाती है.

लॉन्च होने के बाद से हर महीने इस कार की औसतन चार हजार यूनिट बिक रही हैं. कंपनी ने इस कार के पेट्रोल वेरिएंट में 1.2 लीटर क्षमता (87 बीएचपी- 110 एनएम) और डीज़ल वेरिएंट में 1.5 लीटर क्षमता (98.6 बीएचपी-200 एनएम) वाला टर्बो डीज़ल इंजन लगाया है जिनके साथ क्रमश: 5-स्पीड और 6-स्पीड मैनुअल गीयर बॉक्स जोड़ा गया है. इस कार की कीमत 7.8 लाख रुपए से शुरु होती हैं.

ह्युंडई वर्ना

देश की दूसरी प्रमुख कार निर्माता कंपनी ह्युंडई ने इस अगस्त में अपनी लोकप्रिय सेडान वर्ना का फेसलिफ्ट वर्जन लॉन्च किया है. ऑटो रिपोर्ट्स के मुताबिक लॉन्चिंग के बाद वर्ना होंडा सिटी को कड़ी टक्कर देते हुए सी-सेगमेंट की बेस्ट सेलर कार बन चुकी है. एक नए प्लेटफॉर्म के-2 पर तैयार यह कार वर्ना की पांचवीं जेनरेशन है.

कंपनी का दावा है कि उसकी यह नई कार पहले से ज्यादा सुरक्षित, आरामदेह, पॉवरफुल और फ्यूल एफिशिएंट होने के साथ सेगमेंट के बिल्कुल नए फीचर्स के साथ उतारी गयी है. इस कार को कंपनी ने 1.6 लीटर पेट्रोल (122 बीएचपी-153 एनएम) और टर्बो डीज़ल (126 बीएचपी – 260 एनएम) इंजन से लैस किया है. इन दोनों ही इंजनों को कंपनी ने 6-स्पीड मैनुअल और ऑटोमेटिक गियरबॉक्स से जोड़ा है. इस कार की कीमत आठ लाख रुपए से शुरु होती हैं.

जीप कंपस

अमेरिकी ऑटोमोबाइल कंपनी ‘जीप’ ने इस अगस्त अपनी बहुप्रतीक्षित एसयूवी कंपस को भारत बाजार में उतारा था. आमतौर पर 50 लाख रु की कीमत से अपनी गाड़ियों की शुरुआत करने वाली जीप ने कंपस के लिए महज 15 लाख रुपए जैसी आकर्षक कीमत (शुरुआत एक्स शोरूम) तय की है जिसके चलते इसने बाजार में मौजूद पुराने खिलाड़ियों को कड़ी टक्कर देते हुए उनके समीकरण बिगाड़ दिए हैं.

नवंबर में कंपस की 2828 यूनिट की बिक्री दर्ज की गई थी. समझने के लिए यह आंकड़ा महिंद्रा की एक्सयूवी-500 की प्रतिमाह औसतन बिक्री के लगभग बराबर और टाटा की सफारी स्टॉर्म की बिक्री से करीब सात गुना ज्यादा है. कंपस को 1.4 लीटर के टर्बो पेट्रोल इंजन (160 बीएचपी - 250 एनएम) और 2 लीटर टर्बो डीज़ल इंजन (170 बीएचपी - 350 एनएम) और 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स और स्टैंडर्ड 7-स्पीड ट्विन क्लच ऑटोमेटिक गियरबॉक्स विकल्प के साथ बाजार में उतारा गया है.