मुंबई में हुए एक भीषण अग्निकांड में 14 लोगों के मरने और कई के घायल होने की खबर आज के सभी अखबारों के पहले पन्ने पर है. गुरुवार की देर रात हुआ यह हादसा लोअर परेल स्थित कमला मिल्स के परिसर में हुआ. मोजो मेस्त्रो नाम के एक रेस्टोरेंट से लगी यह आग तेजी से पूरे परिसर में फैल गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस हादसे पर दुख जताया है.

हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की विधायक आशा कुमारी और एक महिला पुलिसकर्मी ने शुक्रवार को एक-दूसरे को थप्पड़ जड़ दिए. यह खबर भी आज के कई अखबारों की सुर्खियों में है. राजधानी शिमला में हुई यह घटना तब हुई जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हालिया चुनाव में हुई पार्टी की हार की समीक्षा करने वहां पहुंचे थे. इसमें शामिल होने के लिए आई विधायक आशा कुमारी की एक महिला पुलिसकर्मी से बहस हो गई. इसी दौरान विधायक ने पुलिसकर्मी को तमाचा जड़ दिया जिसके जवाब में महिला पुलिसकर्मी ने भी कांग्रेस नेता पर हाथ उठा दिया.

देश का राजकोषीय घाटा मौजूदा वित्त वर्ष के खत्म होने के चार महीने पहले ही तय लक्ष्य को पार कर गया. आज के सभी अखबारों में यह खबर प्रमुखता से छपी है. महालेखा नियंत्रक द्वारा शुक्रवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार नवंबर के अंत में यह लक्ष्य का 112 फीसदी हो गया है. ऐसा अप्रत्यक्ष कर (जीएसटी) संग्रह के कम रहने और खर्च के ज्यादा रहने के चलते हुआ है. उधर शुक्रवार को केंद्र सरकार ने वर्चुअल मुद्रा बिटकॉइन की तुलना पोंजी स्कीम से करते हुए लोगों को इसके जोखिम से आगाह किया है. यह खबर भी आज के अखबारों में प्रमुखता से छपी है. केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने कल कहा कि इस मुद्रा का कोई आंतरिक मूल्य नहीं है इसलिए इसमें निवेश करना फंसने जैसा है.

शोधन-अक्षमता और दिवालिया संहिता (संशोधन) विधेयक लोकसभा में पास

बैंको को फंसे हुए कर्ज (एनपीए) की समस्या से उबारने के लिए शोधन-अक्षमता और दिवालिया संहिता (आईबीसी) में संशोधन करने वाले अध्यादेश की जगह लेने वाले विधेयक को कल लोकसभा में पास कर दिया गया. हिंदी दैनिक जनसत्ता में यह खबर पहले पन्ने पर प्रमुखता से छपी है. अखबार के अनुसार लोकसभा में इस मसले पर हुई चर्चा में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कल कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने बैंकों की इस समस्या के लिए पूर्ववर्ती यूपीए सरकार को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि तब इस समस्या को दूर करने के बजाय सिर्फ कर्जों का पुनर्गठन किया जाता रहा. प्रस्तावित विधेयक में अध्यादेश की तरह प्रावधान किया गया है कि जानबूझकर कर्ज न चुकाने वाले कर्जदार अब अपनी कंपनी की नीलामी में भाग नहीं ले सकेंगे. अखबार के अनुसार इस बदलाव से कर्जदार कंपनियों की नीलामी प्रक्रिया आसान होने की संभावना है.

मेघालय में चुनाव के दो महीने पहले सत्तारूढ़ कांग्रेस में टूट

मेघालय में विधानसभा चुनाव के करीब दो महीने पहले सत्तारूढ़ कांग्रेस विधायक दल के पांच विधायकों ने पार्टी और विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. इसके अलावा यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी के एक और दो निर्दलीय विधायकों ने भी अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को सौंप दिया है. यह खबर दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में प्रमुखता से छपी है. अखबार के अनुसार इन आठों विधायकों ने भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल होने का ऐलान किया है. विधायकों के अनुसार वे एनडीए की घटक नेशनल पीपुल्स पार्टी में शामिल होंगे. इस घटनाक्रम के बाद 60 सदस्यीय विधानसभा में सत्तारूढ़ कांग्रेस के पास केवल 24 विधायक रह गए हैं.

रेलवे में सुरक्षा से जुड़े 65 हजार खाली पदों को तत्काल भरने का ऐलान

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को लोकसभा में ऐलान किया कि रेलवे में सुरक्षा से जुड़े 1.3 लाख खाली पदों में से आधे पर तुरंत भर्ती की जाएगी. हिंदुस्तान ने इस खबर को पहले पन्ने पर प्रकाशित किया है. अखबार ने पीयूष गोयल के हवाले से बताया कि अब नई तकनीक के आ जाने से पहले जितने कर्मचारियों की जरूरत नहीं रह गई है लिहाजा सभी पद नहीं भरे जाएंगे. रेल मंत्री ने कल यह भी कहा कि अब तकनीक में सुधार होने से इन रिक्तियों को भरने में केवल छह से नौ महीने का वक्त लग रहा है. इसके अलावा उन्होंने कल एक बार फिर कहा कि अगले साल जून से रेल कारखानों में पुराने किस्म के आईसीएफ कोचों का निर्माण बंद कर दिया जाएगा. उसके बाद केवल नई किस्म के एलएचबी कोच ही बनाए जाएंगे.

गुजरात में उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से नाराज

गुजरात की नव​गठित मंत्रिमंडल में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. अंग्रेजी दैनिक द टाइम्स आॅफ इंडिया के अनुसार उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल इस बार वित्त, शहरी विकास और पेट्रोलियम विभाग उन्हें न सौंपने के चलते मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से नाराज हैं. इसलिए उन्होंने शुक्रवार को अपना कार्यभार नहीं संभाला जबकि ज्यादातर मंत्रियों ने काम करना शुरू कर दिया है. सूत्रों के अनुसार पिछले साल मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए नितिन पटेल एक बार फिर अपनी ‘बेइज्जती’ नहीं झेलना चाहते लिहाजा वे अपने पुराने विभाग वापस पाने पर अड़ गए हैं. पटेल के करीबियों के अनुसार उन्होंने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से अपनी नाराजगी गुरुवार को जता दी है. इस पर उन्हें एक-दो दिन का इंतजार करने को कहा गया है. सूत्रों का दावा है कि यदि पटेल की मांगें नहीं मानी गई तो वे विजय रूपाणी मंत्रिमंडल को छोड़ भी सकते हैं.

आज का कार्टून

मुंबई के कमला मिल अग्निकांड पर द इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित आज का कार्टून :