अब ग्वाटेमाला भी अपना दूतावास यरुशलम ले जाएगा | सोमवार, 25 दिसंबर 2017

बीते सोमवार को ग्वाटेमाला के राष्ट्रपति जिमी मोराल्स ने भी अपना दूतावास यरुशलम स्थानांतरित करने की घोषणा कर दी. इस घोषणा के ​जरिये अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को खुला समर्थन देने वाला ग्वाटेमाला पहला देश बन गया है. इसी महीने की छह तारीख को ट्रंप ने यरुशलम को इजराइल की राजधानी स्वीकार करते हुए अपना दूतावास, तेल अवीव से वहां ले जाने की घोषणा की थी.

अभी तक इजराइल के लिए किसी भी देश का कोई दूतावास यरुशलम में नहीं है. वैसे अमेरिका और ग्वाटेमाला भी अपने दूतावासों को कब तक यहां स्थानांतरित करेंगे, इसकी कोई समय सीमा अब तक तय नहीं है. खबरों के मुताबिक अपने दूतावास के यरुशलम स्थानांतरण के लिए चेक गणराज्य भी विचार कर रहा है. हालांकि उसकी तरफ से इस बारे में अब तक कोई औपचारिक घोषणा नहीं की गई है.

यमन : सऊदी अरब के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना की बमबारी से 71 लोगों की मौत | मंगलवार, 26 दिसंबर 2017

सऊदी अरब के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना की यमन में बमबारी जारी है. समाचार चैनल अल जजीरा के अनुसार हूती विद्रोहियों के खिलाफ इस बमबारी में रविवार से अब तक 71 लोगों की मौत हो चुकी है. रविवार को देश भर में हुए 51 हवाई हमलों में 11 बच्चों सहित कम से कम 48 नागरिक मारे गए. वहीं, सोमवार को बमबारी में राजधानी सना में तीन बच्चों और दो महिलाओं सहित 11 लोगों की मौत हो गई.

इस बीच हुदैदाह प्रांत में गठबंधन सेना की बमबारी से दो महिलाओं सहित आठ और केंद्रीय प्रांत देमर में चार लोग मारे गए हैं. हूती समर्थक सामाजिक कार्यकर्ता अब्दुल मालेक अल-फदेल ने बताया कि सना के पश्चिम में स्थानीय हूती नेता मोहम्मद अल-राइमी के घर को निशाना बनाने के दौरान दो इमारतें ध्वस्त हो गईं. उन्होंने बताया कि लड़ाकू विमानों ने मोहम्मद अल-राइमी की कार को निशाना बनाया, जब वे भागने की कोशिश कर रहे थे. उनके मुताबिक लड़ाकू विमानों ने उन लोगों पर भी निशाना साधा, जिन्होंने सबसे पहले पीड़ितों तक पहुंचने की कोशिश की.

यरुशलम पर मात खाने के बाद अमेरिका ने यूएन को दी जा रही आर्थिक मदद घटाने का ऐलान किया | बुधवार, 27 दिसंबर 2017

अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र संघ को दी जाने वाली बजटीय सहायता में कटौती का प्रस्ताव दिया है. संयुक्त राष्ट्र के अमेरिकी मिशन ने इस बारे में बताया है कि वह वित्त वर्ष 2018-19 में यूएन के बजट में 28.5 करोड़ डॉलर से ज्यादा की कटौती करेगा. यूएन के बजट का अधिकांश उसके सदस्य देशों से मिलने वाली आर्थिक अंशदान से तैयार होता है. लेकिन यह ऐलान इसलिए अहम है कि संयुक्त राष्ट्र के बजट में अमेरिकी सहयोग का हिस्सा 22 फीसदी तक है.

जानकारों के अनुसार यरुशलम को इजराइल की राजधानी बनाने का विरोध करने के चलते डोनाल्ड ट्रंप सरकार ने यूएन को दी जाने वाली बजटीय सहायता घटाने का फैसला किया है. ऐसा इसलिए क्योंकि उस प्रस्ताव पर मतदान के बाद संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने कहा था कि हम इस घटना को उस वक्त याद रखेंगे जब ज्यादा आर्थिक या राजनीतिक सहयोग देने की मांग की जाएगी.

रूस : सुपरमार्केट में बम धमाके से दस लोग घायल | गुरुवार, 28 दिसंबर 2017

बीते गुरूवार को रूस में हुए एक बम धमाके में 10 लोग घायल हो गए. यह धमाका देश के दूसरे सबसे बड़े शहर सेंट पीटर्सबर्ग में स्थित एक सुपरमार्केट में हुआ. पुलिस के मुताबिक शुरुआती जांच में पता चला है कि बम को एक ग्राहक के बैग में रखा गया था. रूसी जांच एजेंसियों के अनुसार मामले की आपराधिक और आतंकवादी, दोनों पहलुओं से जांच की जा रही है. अभी तक किसी ने इस धमाके की जिम्मेदारी नहीं ली है.

सेंट पीटर्सबर्ग इस साल अप्रैल में एक आतंकवादी हमले का शिकार हो चुका है. यह हमला एक सब-वे में हुआ था जिसमें 10 लोग मारे गए थे और 20 से भी ज्यादा घायल हुए थे.

लाइबेरिया : पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी जॉर्ज विया अगले राष्ट्रपति होंगे | शुक्रवार, 29 दिसंबर 2017

जाने-माने अफ्रीकी फुटबॉल खिलाड़ी जॉर्ज विया लाइबेरिया में राष्ट्रपति का चुनाव जीत गए हैं. बीबीसी के अनुसार जॉर्ज विया को 60 फीसदी से ज्यादा वोट मिले. वहीं, उनके निकटतम प्रतिद्वन्द्वी और उपराष्ट्रपति जोसफ बोकाई को 38.5 फीसदी वोट मिले. लाइबेरिया में मंगलवार को राष्ट्रपति चुनाव कराया गया था.

लाइबेरिया पश्चिम अफ्रीकी देश है. यहां बीते कई दशक में पहली बार होने वाले लोकतांत्रिक बदलाव के तहत जॉर्ज विया मौजूदा राष्ट्रपति एलन जॉन्सन सरलीफ की जगह लेंगे जो अफ्रीका की पहली निर्वाचित महिला राष्ट्रपति हैं. राष्ट्रपति चुनाव का परिणाम आने के बाद जॉर्ज विया ने कहा, ‘लाइबेरिया के मेरे साथियों, मैं पूरे देश की भावना को बहुत शिद्दत से महसूस कर रहा हूं. आज मुझे जो जिम्मेदारी मिली है, मैं उसके महत्वपूर्ण कार्य की अहमियत को अच्छी तरह से समझता हूं’

फिलिस्तीन ने हाफिज सईद के साथ मंच साझा करने वाले अपने राजदूत को पाकिस्तान से वापस बुलाया | शनिवार, 30 दिसंबर 2017

फिलिस्तीन ने मुंबई आतंकी हमलों के मुख्य आरोपित और जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद के साथ मंच साझा करने अपने राजदूत को पाकिस्तान से वापस बुलाने का फैसला किया है. अंग्रेजी दैनिक द हिंदू के मुताबिक फिलिस्तीन के भारत में राजदूत अदनान अबु अलहायजा ने कहा, ‘उन्होंने जो किया (हाफिज सईद के साथ मंच साझा करना) उसे स्वीकार नहीं किया जा सकता. फिलिस्तीन आंतकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई का समर्थन करता है.’

इससे पहले भारत ने इस मामले में फिलिस्तीन सरकार के सामने कड़ी आपत्ति दर्ज कराई थी. भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि हाफिज सईद की हाजिरी वाले कार्यक्रम में फिलिस्तीन के राजदूत वालिद अबु अली की मौजूदगी को स्वीकार नहीं किया जा सकता है. विदेश मंत्रालय के मुताबिक फिलिस्तीन ने इस पर खेद जताया था और इसे गंभीरता से लेने की बात कही थी.