पाकिस्तान सरकार ने मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा (जेयूडी) के चंदा लेने पर प्रतिबंध लगा दिया है. एनडीटीवी के मुताबिक जेयूडी के अलावा उन संगठनों की फंडिंग पर भी रोक लगाई गई है जिन पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने प्रतिबंध लगा रखा है. यानी पाकिस्तान में अब कोई व्यक्ति या संस्थान इन संगठनों को चंदा नहीं दे सकेगा. सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन ऑफ पाकिस्तान (एसईसीपी) के एक नोटिफिकेशन में यह चेतावनी भी दी गई है कि उसके फैसले का पालन नहीं करने पर भारी जुर्माना लगाया जा सकता है.

सोमवार को ही अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को कड़ी फटकार लगाई थी. डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को धोखेबाज बताते हुए कहा था कि उसने अमेरिका से मिली आर्थिक मदद के बदले उसे कुछ नहीं दिया. डोनाल्ड ट्रंप के इस बयान को लेकर पहले तो पाकिस्तान ने नाराजगी जाहिर की, लेकिन बाद में उसने एसईसीपी के जरिए नोटिफिकेशन जारी कर जमात-उद-दावा को मिलने वाले फंड पर रोक लगा दी. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक पाकिस्तान की सरकार हाफिज के संगठनों की संपत्तियां जब्त करने की भी योजना बना रही है.

उधर, इस पर प्रतिक्रिया देते हुए जेयूडी ने कहा है कि वह इस मामले को कोर्ट में ले जाएगा. जेयूडी के प्रवक्ता ने कहा, ‘लाहौर हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के फैसलों में यह साफ कहा गया है कि जमात-उद-दावा अपने कल्याणकारी काम करते रहने के लिए आजाद है.’ प्रवक्ता ने कहा कि ऐसे स्टंट पाकिस्तान सरकार भारत को शांत रखने के लिए भी करती है.