राज्यसभा चुनाव को लेकर गुटबाजी का सामना कर रही आम आदमी पार्टी ने पार्टी नेता संजय सिंह के साथ नारायण दास गुप्ता और सुशील गुप्ता को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है. इनमें नारायण दास गुप्ता चार्टर्ड अकाउंटेट, जबकि सुशील गुप्ता व्यवसायी और समाजसेवी हैं. मंगलवार को पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) की बैठक में इन नामों पर फैसला किया गया.

पार्टी नेता कुमार विश्वास ने पार्टी की तरफ से उम्मीदवार न बनाए जाने पर तीखी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा, ‘तमाम मुद्दों पर जो सच बोला है, उसके लिए पार्टी ने दंड स्वरूप यह पुरस्कार दिया है.’ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कुमार विश्वास ने कहा, ‘अरविंद ने मुस्कुराते हुए मुझसे कहा था कि सर जी आपको मारेंगे, लेकिन शहीद नहीं होने देंगे. मैं उनको बधाई देता हूं कि मैं अपनी शहादत स्वीकार करता हूं.’ उन्होंने यह भी कहा कि अरविंद केजरीवाल से असहमत रहकर कोई पार्टी में जीवित नहीं रह सकता है.

उधर, आम आदमी पार्टी ने कहा, ‘अरविन्द जी और पार्टी के सभी साथियों का मन था कि देश के बड़े लोग जाकर राज्यसभा में बैठें. कुछ लोगों ने कहा कि हम पार्टी के साथ हैं लेकिन अगर हम पार्टी के टिकट पर राज्यसभा चले गए तो मौजूदा केंद्र सरकार सारी मशीनरी हमारे पीछे ही लगा देगी.’

दिल्ली में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए 16 जनवरी को चुनाव होना है. माना जा रहा है कि संजय सिंह गुरुवार को नामांकन पर्चा दाखिल कर सकते हैं. नामांकन पर्चा भरने की आखिरी तारीख पांच जनवरी है. 70 सीटों वाली दिल्ली विधानसभा में आम आदमी पार्टी का बहुमत है, इसलिए उसके उम्मीदवारों की जीत तय मानी जा रही है.