अभी एक-दो जनवरी की घटना है. जेट एयरवेज़ की लंदन-मुंबई उड़ान संख्या 9डब्ल्यू119 देर शाम ईरान-पाकिस्तान के आकाश मार्ग से गुजर रही थी. मुंबई पहुंचने में क़रीब पौने तीन घंटे का वक़्त था. तभी कॉकपिट में मौज़ूद पायलटों के बीच किसी बात पर बहस हो गई. बात इतनी बढ़ी कि पुरुष सह-पायलट ने अपनी सहयोगी फ्लाइट कमांडर को तमाचा जड़ दिया. मामले की जांच पूरी होने तक पुरुष सह-पायलट का लाइसेंस सस्पेंड कर दिया गया है. विमान में 324 यात्री और चालक दल के 14 सदस्य थे.

द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक़ फ्लाइट कमांडर महिला पायलट को भी विमान उड़ाने की ड्यूटी से हटा दिया गया है. इस घटना की जेट एयरवेज़ के अलावा नागरिक उड्‌डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) भी जांच कर रहा है. ब्रिटिश टेबलॉयड अख़बार द सन के मुताबिक़ दोनों पायलटों के बीच प्रेम संबंध है. दोनों के बीच झगड़े के पीछे भी उनका कोई आपसी कारण था. हालांकि इसकी वज़ह से दो मौके ऐसे भी आए जब कॉकपिट में कोई भी पायलट नहीं था.

बताया जाता है कि लंदन से वहां के स्थानीय समयानुसार सुबह 10 बजे जैसे ही उड़ान मुंबई के नौ घंटे के सफर पर रवाना हुई दोनों पायलटों के बीच झगड़ा होने लगा. बात बढ़ते हुए मारपीट तक आ गई. सूत्रों के मुताबिक़ पुरुष सह-पायलट की बदसलूकी के बाद उसकी साथी कमांडर रोते हुए कॉकपिट से बाहर आ गईं. उन्हें चालक दल के अन्य सदस्यों ने समझाया पर वे नहीं मानीं. तब पुरुष सह-पायलट बाहर आया और उन्हें अपनी सीट संभालने के लिए मनाया.

हालांकि इसके थोड़ी ही देर बाद फिर उनके बीच बात बिगड़ गई और वे फिर बाहर आ गईं. बताते हैं कि इस समय भी उनका सह-पायलट कॉकपिट छोड़कर उनके पीछे आ गया. इस तरह दो बार सुरक्षा मानकों का उल्लंघन कर यात्रियों की जान खतरे में डाली गई. वह तो ख़ुशकिस्मती थी कि चालक दल के सदस्यों की समझाइश के बाद कमांडर पायलट मान गईं और उन्होंने विमान को सकुशल मुंबई हवाई अड्‌डे पर उतार दिया. जेट एयरवेज़ ने भी इस घटना की पुष्टि की है.