चारा घोटाले के देवघर कोषागार मामले की सुनवाई कर रहे केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के विशेष जज शिवपाल सिंह ने कहा है कि उन्हें राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के शुभचिंतकों की तरफ से फोन आए थे. समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार सीबीआई जज ने इससे ज्यादा कोई जानकारी नहीं दी. वहीं, एएनआई के मुताबिक गुरुवार को अदालत में मौजूद रहे लालू प्रसाद यादव से जज शिवपाल सिंह ने कहा, ‘मुझे आपको लेकर कई सिफारिशें मिली हैं, लेकिन आप चिंता न करें, मैं कानून के आधार पर ही फैसला दूंगा.’

सीबीआई अदालत ने इस मामले में 23 दिसंबर को लालू प्रसाद यादव और 14 अन्य दोषियों को दोषी ठहराया था, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा सहित सात लोगों को बरी कर दिया था. अदालत ने दोषियों की सजा का ऐलान शुक्रवार तक के लिए टाल दिया है.

सीबीआई जज शिवपाल सिंह ने बुधवार को राजद नेताओं को अदालत की अवमानना का नोटिस जारी करते हुए भी सख्त टिप्पणी की थी. द टेलिग्राफ के मुताबिक उन्होंने कहा था, ‘नेता लोग मेंढक की तरह टर्र टर्र करते रहते हैं. थोड़े दिन जेल में रहेंगे तो ठीक हो जाएंगे. कम से कम कोर्ट को तो छोड़ दीजिए.’ जज शिवपाल सिंह ने आगे कहा, ‘ये क्या है लोग कुछ से कुछ बयान दे रहे हैं. किसी ने बोला कि लालू जी अगर मिश्रा होते तो सजा नहीं होती.’

अदालत ने 23 दिसंबर के फैसले को जातीय समीकरणों से प्रेरित बताने पर अवमानना का नोटिस जारी किया है. नोटिस पाने वालों में राजद नेता रघुवंश प्रसाद सिंह, मनोज झा और लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव के साथ कांग्रेस नेता मनीष तिवारी का नाम शामिल है. इन लोगों को 23 जनवरी को अदालत में पेश होना है.