लगभग दो साल बाद उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच बातचीत होने जा रही है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार उत्तर कोरिया ने बातचीत के लिए दक्षिण कोरिया का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है. यह बैठक नौ जनवरी को दक्षिण कोरिया के एक सरहदी गांव में होगी. इसमें पेईयांगचेंग विंटर ओलंपिक में उत्तर कोरिया की शिरकत और द्विपक्षीय संबंधों को सुधारने पर चर्चा होने की उम्मीद है. दोनों देशों के बीच आखिरी बातचीत दिसंबर 2015 में हुई थी.

हालांकि, दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्रालय के प्रवक्ता बैक ताई-ह्यून ने कहा है कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार कार्यक्रम को लेकर दक्षिण कोरिया के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है. वैसे इस बातचीत के लिए नए साल के मौके पर उत्तर कोरिया के तानाशाह शासक किम जोंग-उन ने ही रास्ता खोला था. कोरियाई प्रायद्वीप पर तनाव घटाने की अपील करते हुए उन्होंने विंटर ओलंपिक में शामिल होने का संकेत दिया था. इसके बाद दक्षिण कोरिया ने बातचीत का यह प्रस्ताव भेजा था.

उधर, इस प्रस्तावित बातचीत को लेकर जापान ने चेतावनी जारी की है. शुक्रवार को जापानी रक्षा मंत्री इत्सुनोरी ओनेडेरा ने कहा, ‘मुझे लगता है कि सख्त रक्षात्मक मुद्रा को बनाए रखना जरूरी है.’ उन्होंने यह भी कहा कि उत्तर कोरिया बातचीत और परमाणु हथियार के कार्यक्रम को साथ-साथ चला रहा है, इसलिए उसको लेकर जापान अपनी सतर्कता और निगरानी में कोई कमी नहीं आने देगा.