बहुचर्चित चारा घोटाले के देवघर कोषागार मामले में रांची स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने दोषियों की सजा का ऐलान टाल दिया है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक अदालत शनिवार को राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव सहित अन्य दोषियों की सजा की घोषणा करेगी. अदालत अब वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सजा सुनाएगी. इस मामले में बुधवार को ही सजा का ऐलान होना था, लेकिन तब से यह लगातार टल रहा है.

यह मामला देवघर कोषागार से 1991 से 1994 के बीच अवैध तरीके से 89.27 लाख रुपये निकालने से जुड़ा है. सीबीआई अदालत ने इस मामले में 23 दिसंबर को लालू प्रसाद यादव और 14 अन्य लोगों को दोषी ठहराया था. वहीं, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा सहित सात लोगों को बरी कर दिया था. लालू प्रसाद यादव तब से झारखंड के बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल में बंद हैं. शुक्रवार को राजद अध्यक्ष के वकील ने अदालत में याचिका लगाकर खराब सेहत के आधार पर कम से कम सजा देने की मांग की थी. राजद प्रमुख ने अपनी याचिका में कहा, ‘इस घोटाले में मेरी सीधी कोई भूमिका नहीं है. इसलिए मेरी उम्र और तबियत को देखते हुए कम से कम सजा देने पर विचार किया जाए.’

उधर, राजद ने रांची में सीबीआई के विशेष जज को फोन किए जाने के पीछे विरोधियों की साजिश होने का शक जताया है. समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार राजद नेता शिवानंद तिवारी ने कहा, ‘मैं निश्चित रूप से कह सकता हूं कि पार्टी का कोई भी नेता ऐसा नहीं करेगा, क्योंकि सबको पता है कि ऐसी कोशिशों का उल्टा असर होगा.’ उन्होंने आगे कहा कि राजद के राजनीतिक विरोधियों द्वारा ऐसी कोशिशों को खारिज नहीं किया जा सकता है. गुरुवार को सीबीआई जज शिवपाल सिंह ने कहा था कि उन्हें लालू प्रसाद यादव के शुभचिंतकों की तरफ से फोन आए थे.