मनी लॉन्डरिंग मामले में राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं. द हिंदू के अनुसार प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली स्थित पटियाला हाउस कोर्ट में इस मामले में मीसा भारती, उनके पति और अन्य लोगों के खिलाफ दूसरा आरोपपत्र दाखिल किया है. अदालत इस मामले में पेश दोनों आरोपपत्रों पर पांच फरवरी को विचार करेगी.

हालांकि, अदालत ने ईडी द्वारा इस मामले में बार-बार आरोपपत्र दाखिल करने पर नाराजगी भी जताई. रिपोर्ट के मुताबिक विशेष जज एनके मल्होत्रा ने कहा, ‘आप (ईडी) मुकदमा शुरू होने देंगे या शिकायत (आरोपपत्र) ही दाखिल करते रहेंगे? आप और कितने पूरक आरोपपत्र दाखिल करेंगे? आप एक सम्मानित जांच एजेंसी हैं. आप इस तरीके से व्यवहार नहीं कर सकते. यह बुरी तरह से तैयार किया गया आरोपपत्र है.’ शनिवार को ईडी के विशेष वकील अतुल त्रिपाठी ने इस मामले और बातें अदालत के सामने रखने के लिए अतिरिक्त समय की मांग की. इसके बाद अदालत ने इस मामले में पेश दोनों आरोपपत्रों पर सुनवाई पांच फरवरी तक के लिए टाल दी. ईडी ने इस मामले में पहला आरोपपत्र बीते साल 23 दिसंबर को पेश किया था.

ईडी ने बीते साल सितंबर में मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार के फॉर्म हाउस को जब्त कर लिया था. ईडी के मुताबिक दिल्ली के बिजवासन इलाके में स्थित यह फॉर्म हाउस मेसर्स मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर है, जिसे 2008-09 में मनी लॉन्डरिंग के 1.2 करोड़ रुपयों से खरीदा गया था.