भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा तैयार नया सैटेलाइट जल्द ही लॉन्च होने जा रहा है. यह भारत में तैयार अब तक का सबसे वजनी सैटेलाइट है. एनडीटीवी के मुताबिक करीब छह टन वजन वाला संचार सैटेलाइट जीसैट-11 लॉन्च होने के बाद सरकार के ‘डिजिटल इंडिया’ अभियान को आगे बढ़ाने में खासा मददगार साबित होगा.

इस भारी-भरकम सैटेलाइट को अंतरिक्ष में स्थापित करने लायक क्षमता का रॉकेट फिलहाल इसरो के पास नहीं है इसलिए इसे फ्रैंच गयाना से यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) के एरियान-5 रॉकेट के जरिए लॉन्च किया जाएगा. इसरो के अनुसार फिलहाल जीसैट-11 को प्रक्षेपण केंद्र भेजने की तैयारियां चल रही हैं.

इस सैटेलाइट को करीब 500 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया गया है. कहा जा रहा है कि भारत ने अब तक जितने संचार सैटेलाइट छोड़े हैं, अकेले जीसैट-11 की क्षमता उन सबके बराबर है. यह इंटरनेट सेवाएं देने वाला देश का पहला सैटेलाइट होगा और माना जा रहा है कि भारत में सैटेलाइट आधारित इंटरनेट सेवाओं के विस्तार में इससे क्रांतिकारी बदलाव आएगा. सरकार की योजना के मुताबिक इसके जरिए ग्राम पंचायत स्तर तक इंटरनेट सेवाओं को मजबूती दी जाएगी.