मलेशिया के 92 वर्षीय नेता महातिर मोहम्मद को वहां के विपक्षी दलों ने अपना प्रधानमंत्री पद का उम्मीद्वार बनाया है. वहां इसी साल अगस्त में चुनाव होने हैं. अगर उनके सिर जीत का सेहरा बंधता है तो वे इस पद पर चुने जाने वाले दुनिया के सबसे बुजुर्ग नेता होंगे.

वैसे बतौर प्रधानमंत्री मोहम्मद महातिर 22 साल देश की सेवा कर चुके हैं. उन्होंने यह पद 2003 में छोड़ा था. मौजूदा प्रधानमंत्री और अपने विरोधी नजीब रजाक पर पिछले कुछ वर्षों में लगे अरबों डॉलर के घोटाले के आरोपों के बाद उन्होंने सक्रिय राजनीति में लौटने का फैसला किया है.

मोहम्मद महातिर को अपना उम्मीदवार बनाने के इस फैसले के पीछे विपक्ष की मजबूरी भी है. उसके सबसे लोकप्रिय नेता अनवर इब्राहिम इन दिनों जेल में हैं. एक समय था जब इब्राहिम, महातिर मोहम्मद के सहयोगी हुआ करते थे, लेकिन राजनीतिक मतभेदों के कारण 1998 में उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया था. इसके छह साल बाद भ्रष्टाचार के आरोपों में उन्हें जेल भेज दिया गया. खुद पर लगे आरोपों का खंडन करते हुए जेल भेजे जाने के फैसले को उन्होंने राजनीति से प्रेरित बताया था.

लेकिन अब समीकरण फिर बदल गए हैं. मौजूदा प्रधानमंत्री को सत्ता से बेदखल करने के लिए दोनों विरोधी नेताओं ने हाथ मिला लिया है. विपक्षी दलों का कहना है कि अगर आम चुनाव में उनकी जीत होती है तो अनवर इब्राहिम को शाही माफी दिलाने की कोशिश की जाएगी ताकि वे बाद में प्रधानमंत्री बनने के पात्र हो सकें.