पुलिस के इजाजत न देने के बावजूद दलित नेता और गुजरात से नवनिर्वाचित विधायक जिग्नेश मेवाणी ने मंगलवार को दिल्ली में रैली की. यह रैली दलित नेता चंद्रशेखर के समर्थन में आयोजित की गई थी. भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर को बीते साल सहारनपुर में ठाकुर और दलित समुदाय के बीच हुई हिंसा के बाद गिरफ्तार किया गया था.

रैली में जिग्नेश ने भाजपा पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि उनकी, हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर की वजह से भाजपा गुजरात में 150 सीटों के लक्ष्य तक नहीं पहुंच सकी, इसलिए उन्हें निशाना बनाया जा रहा है. जिग्नेश मेवाणी ने कहा, ‘मोदी जी जितनी बार अहमदाबाद आते थे हमे डीटेन किया जाता था और आज हम दिल्ली आए हैं तो हमारे साथ भी यही कर रहे हैं.’ उन्होंने भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बयान देने की मांग भी की.

एक जनवरी को महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव में हुए दलित समुदाय के आयोजन के दौरान हुई इस हिंसा में एक शख्स की मौत हो गई थी. इसके लिए जिग्नेश मेवाणी के खिलाफ मामला दर्ज किया जा चुका है. उन पर सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का आरोप है. इसके बाद जिग्नेश मेवाणी ने भाजपा और आरएसएस पर निशाना साधा था. साथ ही, उन्होंने दिल्ली में युवा हुंकार रैली का ऐलान किया था. हालांकि पुलिस ने 26 जनवरी की तैयारियों के मद्देनजर इसकी इजाजत नहीं दी थी.