हिमाचल प्रदेश के मनाली की रहने वाली आंचल ठाकुर ने देश को स्कीइंग में पहला अंतर्राष्ट्रीय पदक दिलाया है. उन्होंने ‘अल्पाइन एडर-3200 कप’ टूर्नामेंट में कांस्य पदक जीता है. यह टूर्नामेंट एफआईएस (फेडरेशन इंटरनेशनल डि स्की) की ओर से आयोजित किया जाता है.

द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक़ एफआईएस स्कीइंग के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय प्रशासकीय संस्था है. इसकी ओर से यह टूर्नामेंट तुर्की में आयोजित किया गया था. यहां आंचल ने स्लैलम रेस वर्ग में पदक जीता. इस उपलब्धि के बाद तुर्की से ही फोन पर अख़बार से बातचीत में आंचल ने कहा, ‘यह महीनों के प्रशिक्षण का नतीज़ा है. मैंने अच्छी शुरुआत की और शुरू में ही लीड ले ली. इससे तीसरा स्थान हासिल करने में सफल हो सकी.’

आंचल के पिता रोशन ठाकुर विंटर गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के महासचिव हैं. वे अपनी बेटी की ऐतिहासिक उपलब्धि से खुश हैं. उन्होंने कहा, ‘स्कीइंग खिलाड़ियाें का पूरा समुदाय उसकी उपलब्धि से खुश और रोमांचित है. यह देश के खेल क्षेत्र के लिए भी अहम पड़ाव साबित हो सकता है.’ ग़ौरतलब है कि भारत में अब तक शीतकालीन खेलों की न कोई संस्कृति विकसित हो पाई है और न मूलभूत ढांचा. जो लोग शीतकालीन खेलों में हिस्सा लेते हैं उन्हें सरकार का समर्थन-सहयोग भी न के बराबर ही मिलता है. ऐसे में अंचल की उपलब्धि निश्चित ही बड़ी मानी जा सकती हे.

Finally something unexpected happened. My first ever international medal.🙌 Federation International Ski Race (FIS).... https://t.co/WY7H8a6KNA

— Aanchal Thakur (@alleaanchal) 1515516726000