महाराष्ट्र पुलिस ने पुणे के भीमा कोरेगांव में एक जनवरी को भड़की जातीय हिंसा के मामले में अब तक 43 लोगों को गिरफ्तार किया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार इनमें तीन नाबालिग भी शामिल हैं. पुलिस का कहना है कि इन लोगों को इनके खिलाफ दर्ज मामलों के आधार पर गिरफ्तार किया गया है.

खबरों के मुताबिक इस मामले में अब तक गिरफ्तार लोगों में दलित और मराठा समुदाय के लोग शामिल हैं. सोमवार को पुणे के पुलिस अधीक्षक स्वेज हक ने बताया था कि इस हिंसा में शामिल असामाजिक तत्वों की पहचान करने के लिए पुलिस सीसीटीवी फुटेज और वीडियो रिकॉर्डिंग खंगाल रही है.

एक जनवरी को भीमा कोरेगांव युद्ध की 200वीं वर्षगांठ पर पुणे के भीमा कोरेगांव में एकत्रित लोगों पर कथित तौर पर भगवा झंडे के साथ कुछ लोगों ने हमला कर दिया था. इसके अलावा इन लोगों की गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया था. इस टकराव में एक युवक की मौत हो गई थी. इसके विरोध में पूरे महाराष्ट्र में प्रदर्शन हुए थे. इसके बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने युवक की मौत की जांच अपराध जांच विभाग (सीआईडी) को सौंपने और उसके परिजनों को 10 लाख रुपये की सहायता देने की घोषणा की थी.