पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ आधिकारिक यात्रा पर लंदन गए पत्रकारों की एक शर्मसार कर देने वाली हरक़त का ख़ुलासा हुआ है. मीडिया में आई खबरों के मुताबिक लंदन के एक आलीशान होटल में रात्रिभोज के दौरान इन पत्रकारों ने चांदी की चम्मचें और छुरी-कांटे चुराने की कोशिश की थी. लेकिन उनकी यह हरक़त सीसीटीवी (क्लोज सर्किट टेलीविजन) कैमरों में लाइव रिकॉर्ड हो गई और बाद में इस आधार पर होटल स्टॉफ पर इनसे सामान वापस लिया. सोशल मीडिया में आज इस घटना के हवाले से पत्रकारों और मीडिया की जमकर आलोचना हुई है और उनका खूब मजाक बनाया गया है. बॉबी ने ट्वीट करके पूछा है, ‘... क्या ऐसे पत्रकार हम तक सही खबरें पहुंचाते होंगे?’ फेसबुक पर आशीष प्रदीप की चुटकी है, ‘पत्रकारों के चमचे चुराने से बुरा है, पत्रकारों का चमचा हो जाना.’

एक तबके ने इस घटना के बहाने यहां ममता बनर्जी पर भी निशाना साधा है. राहुल सिन्हा का ट्वीट है, ‘खबर यह नहीं कि पत्रकार चम्मच चुरा रहे थे, खबर यह है कि ममता दीदी विदेश में पत्रकारों को चांदी के चम्मच से खाना खिलवा रही थीं.’ जनसत्ता के पूर्व संपादक ओम थानवी ने सवाल उठाया है, ‘... क्या ये चम्मच वाले पत्रकार एक राजनेता के प्रचार के लिए साथ गए थे? किसके खर्च पर?’

सोशल मीडिया में इस खबर पर आई कुछ और दिलचस्प प्रतिक्रियाएं :

रीमा शर्मा | @Rsharma7988

चलो, आज पत्रकारों पर से बिकाऊ होने का दाग़ धुल गया क्योंकि पत्रकार अगर बिकाऊ होते तो चम्मच क्यों चुराते?

जनार्दन मिश्रा | @JBMIS

वे लोग पेशेवर चोर नहीं हैं. कृपया उन्हें चोर कहकर उनका अपमान न करें. वे तो भारत से लूटा गया माल वापस लाना चाह रहे थे.

एजे+‏ @ajplus

बर्फबारी के बाद सहारा रेगिस्तान.

आलोक पुराणिक | @puranikalok

बंगाल की सीएम के साथ जाकर पत्रकार ब्रिटेन में चम्मच की चोरी कर रहे हैं. इससे बंगाल के पत्रकारों के संतोषी होने का पता चलता है. वरना होने को तो ब्रिटेन में कोहिनूर भी है!

सतीश शुक्ला | @satishshuklaa

भारत के वरिष्ठ पत्रकारों के चम्मच कांड से पता चलता है कि क्यों भारतीय रेल के शौचालय में धोने वाला डब्बा चैन से बांध कर रखा जाता है.

जयदीप सिंह राठौड़ | @Mr_smokersingh

हमारे पत्रकार ब्रिटेन में चांदी के चम्मच चुराते पकड़े गए... उन्हें पता है भारत में चमचों की कमी नहीं है, फिर भी???