दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और गुजरात पुलिस के ऐंटी टेरर स्क्वाड ने इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से बिलाल अहमद कावा को गिरफ्तार किया है. साल 2000 में लाल किले पर हुए आतंकी हमले की साजिश रचने वालों में ​कथित तौर पर वह भी शामिल था. इस हमले में तीन लोग मारे गए थे जिनमें सेना के दो जवान भी शामिल थे. खबर के मुताबिक कावा श्रीनगर से जेट एयरवेज की एक उड़ान से दिल्ली पहुंचा था जहां उसे हिरासत में लिया गया. स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा ने खबर की पुष्टि की है.

कावा पर लश्कर कमांडर मोहम्मद आरिफ के सहयोगी अशफाक से संपर्क में रहने का आरोप भी है जिसने लाल किले पर हमले की साजिश रची थी. उसने कावा के तीन बैंक खातों में 29.5 लाख रुपये भी जमा कराए थे. इनमें से एक श्रीनगर जबकि दो खाते दिल्ली के थे. सूत्रों के हवाले से ‘द टाइम्स आॅफ इंडिया’ ने लिखा है कि उस आतंकी हमले के बाद वह श्रीनगर भाग गया था और अपनी पहचान छिपाकर वहीं रह रहा था.

22 दिसंबर 2000 को लश्कर के छह आतंकवादी लाहौरी गेट की तरफ से शाम करीब सात बजे ऐतिहासिक लाल किले में घुसने में कामयाब रहे थे जहां उन्होंने एसाल्ट राइफलों से अंधाधुंध गोलियां बरसाई थीं. पाकिस्तान के एबटाबाद से संबंध रखने वाले अशफाक को उस हमले का दोषी करार देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई थी जबकि उससे जुड़े एक अन्य आतंकवादी अबु समल को दिल्ली पुलिस ने बटला हाउस मुठभेड़ में मार गिराया था.