‘भारत को शहरीकरण में चीन की नकल नहीं करनी चाहिए.’

— राजीव कुमार, नीति आयोग के उपाध्यक्ष

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार का यह बयान भारत के लिए विकास के अपने मॉडल की जरूरत बताते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘अपनी विविधता और बहुलता को देखते हुए हम भारत में असंतुलित और गैर-बराबरी वाले शहरीकरण की इजाजत नहीं दे सकते.’ राजीव कुमार ने आगे कहा कि चीन का विकास और आधुनिकीकरण समुद्री किनारे पर ही हुआ है और उसका भीतरी हिस्सा पिछड़ा हुआ है. उनके मुताबिक भारत ने अभी तक अपने शहरों को सशक्त बनाने पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया है. राजीव कुमार के मुताबिक शहरों में मेयर की पुरानी व्यवस्था को दोबारा खड़ा करने की जरूरत है.

‘बातचीत और आतंक साथ-साथ नहीं चल सकते, लेकिन (पाकिस्तान से) आतंक पर बात बिल्कुल हो सकती है.’

— रवीश कुमार, भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार का यह बयान थाइलैंड में 26 दिसंबर को पाकिस्तान से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) के स्तर की बातचीत की खबरों को सही बताते हुए आया. इसमें भारत के एनएसए अजीत डोभाल और पाकिस्तान के एनएसए नासिर खान जंजुआ शामिल हुए थे. उन्होंने कहा, ‘इस बातचीत में मुख्य मुद्दा इस क्षेत्र से आतंकवाद मिटाना था.’ रवीश कुमार ने आगे कहा कि निश्चित तौर पर इन वार्ताओं में सीमा पार आतंकवाद का मुद्दा शामिल रहता है. दोनों देशों में यह बातचीत 25 दिसंबर को पाकिस्तान में बंद भारतीय कुलभूषण जाधव से उनकी मां और पत्नी की मुलाकात के ठीक एक दिन बाद हुई थी. भारत ने इस मुलाकात के दौरान पाकिस्तान पर कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी के साथ बदसलूकी किए जाने का आरोप लगाया था.


 ‘मैं मानवता के साथ हिंदू हूं और वे (आरएसएस और भाजपा) बगैर मानवता के हिंदू हैं.’

— सिद्धारमैया, कर्नाटक के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री सिद्धारमैया का यह बयान भाजपा द्वारा कांग्रेस को देश में आंतकवाद के लिए जिम्मेदार ठहराने के जवाब में आया.एक कन्नड़ी कहावत का जिक्र करते हुए उन्होंने आगे कहा कि यह तो कद्दू चोर कहने पर अपना कंधा छूकर देखने (चोर की दाढ़ी में तिनका) वाली बात हो गई. इससे पहले बुधवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कर्नाटक की कांग्रेस सरकार को हिंदू विरोधी बताया था. इसका जवाब देते हुए मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा था, ‘खुद भाजपा और आरएसएस में आतंकी हैं.’ इसके बाद भाजपा ने सिद्धारमैया के बयान को गैर-जिम्मेदाराना बताया था और कांग्रेस पर देश में आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया था.


‘मैं ममता बनर्जी के साथ बातचीत के लिए तैयार हूं.’

— बिमल गुरुंग, गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के प्रमुख

जीजेएम प्रमुख बिमल गुरुंग ने यह बात पश्चिम बंगाल के पहाड़ी हिस्से को अलग राज्य बनाने की मांग पर बातचीत के सवाल पर कही. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी बातचीत और राज्य सरकार के साथ बने गतिरोध को खत्म करना चाहती है. बिमल गुरुंग ने आगे कहा कि राज्य सरकार के साथ कोई भी बातचीत गोरखा पहचान को आगे रखकर की जाएगी. उनके मुताबिक उनकी गोरखालैंड की मांग पूरी तरह के भारतीय संविधान के दायरे में है. जीजेएम प्रमुख बिमल गुरुंग ने अलगाववादी आंदोलन चलाने की खबरों को बेबुनियाद बताया.


‘हम ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते को सुरक्षा देने पर सहमत हैं.’

— सिगमर ग्रेबियल, जर्मनी की विदेश मंत्री

जर्मनी की विदेश मंत्री सिगमर ग्रेबियल का यह बयान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा ईरान पर तेल प्रतिबंध लगाने की आशंका को लेकर आया. इस प्रतिबंध को 2015 में ईरान के साथ परमाणु समझौते के बाद हटा लिया गया था. इस मुद्दे पर ब्रिटेन, फ्रांस और ईरान के अपने समकक्षों के साथ बातचीत के बाद गुरुवार को सिगमर ग्रेबियल कहा, ‘जब दुनिया के दूसरे हिस्सों में परमाणु हथियार को पाने की चर्चा हो रही है तब परमाणु हथियारों का विकास रोकने के लिए इसे (ईरान परमाणु समझौता) बनाए रखना जरूरी है.’ उधर, अमेरिका द्वारा तेल प्रतिबंध लगाए जाने पर ईरान ने भी परमाणु समझौते से पीछे हटने की चेतावनी दी है.