चीन ने बढ़ती नजदीकी के बीच मालदीव ने अपने रुख को लेकर भारत को आश्वस्त किया है. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के दौरे पर आए मालदीव के विदेश मंत्री मोहम्मद आसिम ने कहा है कि उनका देश ‘इंडिया फर्स्ट’ (भारत पहले) की नीति पर चलेगा. उनके दौरे को लेकर भारत सरकार की तरफ से जारी किए गए बयान में यह बात कही गई है. बयान के मुताबिक मालदीव भारत के साथ अपने संबंधों को सबसे ज्यादा महत्व देगा.

हाल में भारत और मालदीव के बीच रिश्ते बिगड़ने की स्थिति में पहुंचते दिखे हैं. चीन के साथ मुक्त व्यापार समझौता कर उसने भारत की चिंताएं बढ़ा दी थीं. लेकिन अब मालदीव के विदेश मंत्री ने भारत के सुरक्षा हितों को जोखिम में नहीं डालने का आश्वासन दिया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ हुई बैठकों में दोनों देशों के बीच विकास के लिए भागीदारी को लेकर बात हुई. साथ ही रक्षा व सुरक्षा सहयोग को बढ़ावा देने को लेकर भी सहमति जताई गई. मोहम्मद आसिम ने यह भी कहा कि उनका देश उन विकास योजनाओं पर जल्दी ही काम करेगा जिनकी घोषणा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन के भारत दौरे के दौरान की गई थी.

मोहम्मद आसिम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मालदीव आने का न्यौता भी दिया. इस पर प्रधानमंत्री ने उचित समय पर मालदीव आने की बात कही. उन्होंने मालदीव के विदेश मंत्री को आश्वासन दिया कि भारत हमेशा मालदीव का विश्वसनीय और नजदीकी पड़ोसी बना रहेगा. मोहम्मद आसिम और सुषमा स्वराज के बीच मालदीव के चीन के साथ हुए मुक्त व्यापार समझौते को लेकर भी बातचीत हुई. इस मुद्दे पर मालदीव लगातार यही बात करता है कि वह जल्द ही भारत के साथ भी ऐसा ही समझौता करेगा.