केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सेंसर बोर्ड) ने भले ही फिल्म ‘पद्मावती’ को अन्य बदलावों के साथ ‘पद्मावत’ नाम से अपनी इजाजत दे दी हो, लेकिन सभी राज्यों में इसका रिलीज हो पाना मुश्किल लग रहा है. न्यूज18 के मुताबिक शुक्रवार को मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वे इस फिल्म को अपने राज्य में दिखाने की इजाजत नहीं देंगे.

उधर, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी कहा है कि संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ उनके राज्य में रिलीज नहीं होगी. राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पहले ही इसे राजस्थान में रिलीज न होने देने की बात कह चुकी हैं. इस बीच महाराष्ट्र पुलिस ने मुंबई में सेंसर बोर्ड के ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करने वाले 96 लोगों को हिरासत में लिया है. उनका कहना था कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है, इसलिए केवल फिल्म का नाम बदल देना काफी नहीं है.

फिल्म ‘पद्मावत’ 25 जनवरी को रिलीज होगी. यह पहले ‘पद्मावती’ नाम से एक दिसंबर को रिलीज होने वाली थी. लेकिन इसमें रानी पद्मावती के चरित्र चित्रण को लेकर राजपूत संगठनों के विरोध के चलते सेंसर बोर्ड ने इसे मंजूरी नहीं दी थी. हालांकि, बाद में एक विशेष समिति, जिसमें राजघराने और इतिहासकार दोनों शामिल थे, की सलाह के आधार पर सेंसर बोर्ड ने इसे कुछ बदलावों के साथ रिलीज करने की इजाजत दे दी थी.