दिल्ली और पंजाब देश के सबसे अमीर राज्य हैं जबकि जैन समुदाय सबसे अधिक समृद्ध है. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक राष्ट्रीय परिवार और स्वास्थ्य सर्वेक्षण के चौथे दौर (एनएफएचएस-4) के आंकड़ों से यह तथ्य सामने आया है. एनएफएचएस-4 की रिपोर्ट में एक संपत्ति सूचकांक तैयार किया गया है. यह सूचकांक उपभोक्ता उत्पादों के स्वामित्व (जैसे टीवी, बाइक) और पीने के पानी जैसी घरेलू चीजों की उपलब्धता पर दिए गए अंकों के आधार पर तैयार किया गया है.

रिपोर्ट में राज्यों को लेकर नए तथ्य सामने आए हैं. इसके मुताबिक दिल्ली और पंजाब के लोग देश में सबसे ज्यादा अमीर हैं. इन दोनों राज्यों में रहने वाले 60 प्रतिशत लोगों के पास अपना मकान है. इस मामले में बिहार सबसे नीचे है. यहां रहने वाले आधे से ज्यादा लोगों के पास अपना घर नहीं है. जहां तक समुदाय विशेष की बात है तो जैन समुदाय सबसे धनवान है. इस समुदाय की 70 प्रतिशत जनसंख्या के पास अपना मकान है.

वहीं, संपत्ति के राष्ट्रीय वितरण की बात करें तो इस मामले में हिंदू और मुस्लिम समुदाय में ज्यादा अंतर नहीं है. इसके अलावा ऊंची जातियों के लोगों के घरों की संख्या किसी भी अन्य जाति समूह की तुलना में लगभग दोगुनी है. इस मामले में अनुसूचित जनजातियों के लोगों की हालत सबसे ज्यादा खराब है.