ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पर जूता फेंके जाने का मामला सामने आया है. हालांकि उन्हें यह नहीं लगा. खबरों के मुताबिक यह घटना मंगलवार रात की है जब ओवैसी दक्षिण मुंबई के नागपाड़ा इलाके में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे. पुलिस ने कहा है कि सीसीटीवी फुटेज के जरिये ओवैसी पर जूता फेंकने वाले आरोपित व्यक्ति की पहचान कर ली गई है और उसे जल्दी ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

जूता फेंके जाने की घटना पर ओवैसी ने कहा, ‘ऐसी हरकतें करने वाले लोग महात्मा गांधी, गोविंद पनसारे और नरेंद्र डाभोलकर के हत्यारों की विचारधारा से प्रेरित हैं. ये निराश लोग हैं. मुझ पर चाहे जितना हमला हो लेकिन मुझे सच बोलने से कोई नहीं रोक सकता.’

पिछले कुछ समय से तीन तलाक के मुद्दे पर हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ आक्रामक रुख अपना रखा है. बीते सोमवार को हैदराबाद में भी एक जनसभा को दिए अपने संबोधन में उन्होंने कहा था कि तीन तलाक की आड़ में भाजपा मुस्लिम मर्दों को जेल भिजवाकर औरतों को सड़कों पर लाना चाहती है. मंगलवार को मुंबई में भी इस मुद्दे को उठाते हुए ओवैसी ने कहा, ‘भाजपा से देखा नहीं जा पा रहा कि तीन तलाक का फैसला मुसलमानों को मंजूर नहीं है.’

वैसे नेताओं पर विरोधस्वरूप जूता फेंके जाने की घटनाएं पहले भी होती रही हैं. इसकी शुरुआत अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश से हुई थी. इसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और दिल्ली के मौजूदा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के अलावा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को ऐसे हमले का सामना करना पड़ा है.