अफगानिस्तान के नांगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद में आतंकियों ने ‘सेव द चिल्ड्रन’ संगठन के दफ्तर को निशाना बनाया है. स्थानीय वेबसाइट टोलो न्यूज के मुताबिक एक आतंकी ने दफ्तर के गेट पर खुद को विस्फोटकों से उड़ा लिया ताकि दूसरे बंदूकधारी हमलावर अंदर दाखिल हो सकें. इस हमले में कम से कम 11 लोग घायल हो गए. हालांकि, अभी तक यह तय नहीं हो पाया है कि ये लोग ‘सेव द चिल्ड्रन’ के कर्मचारी हैं या राहगीर. ‘सेव द चिल्ड्रन’ एक गैर-सरकारी संगठन है. यह बच्चों के अधिकारों के लिए काम करता है और उन्हें मदद पहुंचाता है.

रिपोर्ट के मुताबिक सेव द चिल्ड्रन के दफ्तर में घुसे आतंकियों और अफगान स्पेशल फोर्सेज के बीच मुठभेड़ जारी है. इस बीच तालिबान ने इस हमले के पीछे अपना हाथ होने से इनकार किया है. अभी तक किसी दूसरे संगठन ने भी इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है. हालांकि, इसके पीछे इस्लामिक स्टेट (आईएस) का हाथ होने का शक जताया जा रहा है. पाकिस्तान सीमा से लगा नांगरहार प्रांत इस समय इस्लामिक स्टेट का गढ़ बना हुआ है.

इस बीच अफगान सेना ने तालिबान और अन्य आतंकी संगठनों के खिलाफ सफलता मिलने का दावा किया है. लेकिन आम नागरिकों पर आतंकी हमले की घटनाएं लगातार जारी हैं. शनिवार को ही आतंकियों ने काबुल के इंटरकॉन्टिनेंटल होटल को निशाना बनाया, जिसमें 22 लोगों की मौत हो गई.