संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत का विरोध और हिंसक हो गया है. बुधवार को कई राज्यों में प्रदर्शनकारी तोड़फोड़ और आगजनी पर उतर आए. गुजरात के अहमदाबाद में कुछ जगहों पर भीड़ ने दुकानों पर हमला किया और गाड़ियों में आग लगा दी. हिंसा के आरोप में 48 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया. गुजरात के अलावा राजस्थान, महाराष्ट्र, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और जम्मू-कश्मीर से भी हिंसक घटनाओं की खबर है. हरियाणा के गुरुग्राम में प्रदर्शनकारियों ने बच्चों को ले जा रही एक स्कूल बस को भी निशाना बनाया. इन राज्यों में भी कई उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है.

उधर, मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने कहा है कि राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और गोवा में उसके सदस्य ये फिल्म नहीं दिखाएंगे. उसका कहना है कि कानून-व्यवस्था के हालात को दिखते हुए वह थियेटरों और आम लोगों की सुरक्षा को खतरे में नहीं डालना चाहती. इस एसोसिएशन में भारत के 75 फीसदी मल्टीप्लेक्स मालिकों की हिस्सेदारी है.

पद्मावत कल रिलीज हो रही है. उधर, राजपूत संगठनों ने कल जनता कर्फ्यू का ऐलान किया है. इससे पहले गुजरात, मध्य प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा ने इस फिल्म पर रोक लगा दी थी. उनका कहना था कि इसके प्रदर्शन से कानून-व्यवस्था बिगड़ सकती है. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने यह रोक हटा दी. शीर्ष अदालत ने राज्यों से कहा कि उनका काम कानून-व्यवस्था सुनिश्चित करना है. कई राजपूत संगठन ये कहते हुए पद्मावत का विरोध कर रहे हैं कि इसमें इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है.