देश की प्रमुख कार निर्माता कंपनी मारुति-सुज़ुकी ने इस बुधवार अपने पहले कॉन्सेप्ट इलेक्ट्रिक व्हीकल ई-सर्वाइवर से पर्दा हटा दिया है. कंपनी ने बॉम्बे एक्सचेंज को दी जानकारी में कहा है कि वह ई-सर्वाइवर को अगले महीने होने वाले ऑटो एक्स्पो में पेश करेगी. कंपनी के मुताबिक इस कॉन्सेप्ट इलेक्ट्रिक कार की डिजायन को कॉम्पेक एसयूवी कारों की तर्ज पर तैयार किया गया है. जानकारों का कहना है कि मारुति के इस कदम के बाद केंद्र सरकार की उस नीति को मजबूती मिली है जिसके तहत 2030 तक पूरी तरह इलेक्ट्रिक वाहनों पर निर्भर होने की बात कही गई है.

खबरों के मुताबिक मारुति-सुज़ुकी ऑटो एक्सपो-2018 में 18 वाहनों के साथ सबसे बड़ा डिस्प्ले लगाने जा रही है. इसमें नेक्सा, अरेना और मोटरस्पोर्ट ज़ोन शामिल होंगे. इस शो में मारुति ई-सर्वाइवर के अलावा अपनी कुछ और नई कारों को लॉन्च और शोकेस करने वाली है. इनमें नई स्विफ्ट और फ्यूचर कॉन्सेप्ट एस भी शामिल है. माना जा रहा है कि फ्यूचर कॉन्सेप्ट एस कंपनी की सबसे सस्ती कारों में से एक होगी. इग्निस के आकार वाली इस कार की डिजायन को मारुति ने खुद तैयार किया है और इसे डिजायन इवोल्यूशन नाम दिया है.

रेनो और होंडा ने अपनी कारें वापिस बुलाईं

रेनो इंडिया ने भारत में अपनी लोकप्रिय हैचबैक क्विड की कई यूनिट वापिस मंगवाने का फैसला लिया है. बताया जा रहा है कि क्विड के 0.8 लीटर क्षमता वाले मॉडल के स्टीयरिंग सिस्टम में खराबी आने की खबरों के चलते कंपनी ने यह कदम उठाया है. रेनो ने इस स्वैच्छिक रीकॉल को सर्विस कैंपेन का नाम दिया है. खबरों के मुताबिक कंपनी डीलर्स ने अपने ग्राहकों से संपर्क साधना शुरु कर दिया है. बताया जा रहा है कि इस सर्विस कैंपेन में डीलरशिप स्तर पर कारों की जांच होगी और वहीं पर प्रभावित कारों की मरम्मत मुफ्त में करवाई जाएगी. हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि क्विड की कितनी कारें वापिस मंगवाई गई हैं. इससे पहले भी 2016 में रेनो खराब फ्यूल होस और क्लिप की वजह से क्विड की पचास हजार यूनिट को रीकॉल कर चुकी है.

जापानी ऑटोमोबाइल कंपनी होंडा भी एयरबैग में खराबी आने के चलते अपनी 22,834 कारों को वापिस मंगवाने जा रही है. इन कारों में 2013 में बनी होंडा एकॉर्ड, सिटी और जैज़ जैसी कारें शामिल हैं. खबरों के मुताबिक इन कारों में उसी टकाटा कंपनी के एयरबैग इस्तेमाल किए गए हैं जिसने साल की शुरुआत में दुनियाभर में अपने 33 लाख खराब एयरबैग बदलने की घोषणा की थी. इससे पहले होंडा कार्स इंडिया ने मार्च-2016 में अपनी 2.24 लाख कारों को रीकॉल किया था. वहीं पिछले साल जनवरी में भी कंपनी को इसी परेशानी की वजह से अपनी 41,480 कारों को वापिस मंगवाना पड़ा था. होंडा ने घोषणा की है कि इन कारों का एयरबैग बदलने के लिए ग्राहकों से कोई शुल्क नहीं वसूला जाएगा. ग्राहक खुद भी कंपनी की डीलरशिप पर जाकर एयरबैग रिप्लेस करवा सकते हैं.

डैटसन रेडी-गो का ऑटोमेटिक वर्जन लॉन्च

जापानी कार निर्माता कंपनी निसान की सहयोगी डैटसन ने इस बुधवार अपनी सबसे किफायती कारों में से एक रेडी-गो का ऑटोमेटिक वर्जन लॉन्च किया है. कंपनी का दावा है कि एएमटी के साथ रेडी-गो सेगमेंट की सबसे ज्यादा फीचर्स वाली कार बन गई है. रेडी-गो एएमटी देश में मौजूद डैटसन के सभी डीलरशिप पर उपलब्ध है. कंपनी ने इस कार की कीमत पहले से करीब 22 हजार रुपए ज्यादा यानी 3.80 लाख रुपए (दिल्ली एक्सशोरूम) तय की है.

रेडी-गो एएमटी के लॉन्च के मौके पर निसान मोटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर जोरेम साइगोट ने कहा, ‘डैटसन रेडी –गो में कंपनी ने बेहतरीन ग्राउंड क्लियरेंस, केबिन स्पेस और हैडरूम के साथ डुअल ड्राइविंग मोड्स दिए हैं जो सुविधा और लचीलापन प्रदान करते हैं.’ कंपनी ने इस कार को चार नए कलर- रूबी रेड, लाइम ग्रीन, व्हाइट के साथ ग्रे और सिल्वर में लॉन्च किया है.

कार की परफॉर्मेंस की बात करें तो इसका 999 सीसी क्षमता वाला इंजन 68 पीएस पॉवर और 91 एनएम का अधिकतम टॉर्क उत्पन्न करने में सक्षम है. फीचर्स के लिहाज से कंपनी ने कार में ड्राइविंग और रश ऑवर जैसे दो ड्राइविंग मोड दिए हैं. इसके अलावा इस कार को ब्लूटूथ ऑडियो स्ट्रीमिंग के साथ हैंड्स-फ्री कॉलिंग, सेंटर्ल लॉकिंग सिस्टम और रिमोट एंट्री जैसी खूबियों से लैस किया गया है. जानकारों का कहना है कि ऑटोमैटिक वर्जन के साथ नई रेडी-गो मारूति-सुज़ुकी ऑल्टो-800 और रेनो क्विड को कड़ी टक्कर दे सकती है.