नोटबंदी के बाद बैंकों में 20 लाख से ज्यादा रकम जमा कराने वाले दो लाख लोगों को नोटिस | सोमवार, 22 जनवरी 2018

नोटबंदी के बाद बैंक खातों में 500 और एक हजार रुपये के नोट जमा कराने वाले करीब दो लाख लोगों को सरकार ने नोटिस जारी किया है. नोटिस ऐसे लोगों को भेजा गया है जिन्होंने नोटबंदी के बाद बैंकों में 20 लाख रुपये से ज्यादा की रकम तो जमा कराई, लेकिन इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं किया. इनमें से कुछ ऐसे भी हैं जिन्होंने आयकर विभाग को पैसों के बारे में जरूरी जानकारियां नहीं दीं. इस बारे में आयकर विभाग के एक अधिकारी का कहना है कि ऐसे लोगों से अनेक बार जवाब देने का आग्रह किया गया था, लेकिन इनकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया न मिलने पर विभाग ने इन्हें नोटिस जारी किया है.

खबरों के मुताबिक ऐसे लोगों की पहचान के लिए बहुत बारीकी से आंकड़े खंगाले गए हैं और उसी आधार पर 18 लाख संदिग्ध लोगों की पहचान की गई जिन्होंने नोटबंदी के बाद पांच लाख रुपये या उससे ज्यादा की रकम खातों में जमा कराई थी. ऐसे 12 लाख लोगों की पहचान तो आयकर के पोर्टल के जरिये ही कर ली गई थी. हालांकि सरकार की शुरुआती कार्रवाई उनके खिलाफ होगी जिन्होंने 50 लाख रुपये या इससे ज्यादा की रकम नोटबंदी के बाद बैंक खातों में जमा कराई थी.

बीते एक दशक के दौरान देश में बेटियों की चाह रखने वालों की संख्या बढ़ी है : सर्वे | मंगलवार, 23 जनवरी 2018

हाल में प्रकाशित नेशनल फैमिली हैल्थ सर्वे (एनएफएचएस) के आंकड़ों के मुताबिक देश में बेटियों की चाह रखने वाले महिला-पुरुषों की संख्या में वृद्धि हुई है. सर्वे के मुताबिक 15 से 49 साल की करीब 79 फीसदी महिलाओं जबकि 15 से 54 आयु वर्ग के 78 प्रतिशत पुरुषों की चाह है कि उनके परिवार में एक बेटी जरूर हो. खास बात यह है कि अनुसूचित जाति, जनजाति, मुस्लिम और ग्रामीण क्षेत्रों के अलावा आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के महिला और पुरुष भी यह विचार रखते हैं. साल 2005-06 के आंकड़े देखें तो उस वक्त बेटियों की चाह केवल 74 फीसदी महिलाओं और 65 प्रतिशत पुरुषों को ही थी.

सर्वे के मुताबिक, शहरी क्षेत्रों में रहने वाले 75 प्रतिशत महिला-पुरुष जहां एक बेटी की चाह रखते हैं तो वहीं ग्रामीण इलाकों में महिलाओं की यह दर 81 फीसदी है जबकि पुरुषों की 80 फीसदी. साक्षर और निरक्षर महिला-पुरुषों की तुलना करें तो पता चलता है कि बारवहीं कक्षा तक की शिक्षा हासिल करने वाली 72 प्रतिशत महिलाओं और 74 प्रतिशत पुरुषों को जहां एक बेटी की चाह है तो वहीं 85 फीसदी निरक्षर महिलाएं और 83 फीसदी पुरुष परिवार में एक बेटी चाहते हैं.

चारा घोटाला : तीसरे मामले में लालू प्रसाद यादव को पांच साल की सजा हुई | बुधवार, 24 जनवरी 2018

राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले से जुड़े तीसरे मामले में पांच साल कैद की सजा सुनाई गई. विशेष सीबीआई अदालत ने बुधवार को सजा का ऐलान करते हुए उन पर पांच लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया. कोर्ट ने उन्हें इस मामले में बुधवार को ही सुबह दोषी ठहराया था.

लालू यादव के अलावा अदालत ने इस केस में बिहार के एक अन्य पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को भी पांच साल कैद की सजा सुनाई है. अदालत के आदेश के मुताबिक़ पांच लाख रुपए का जुर्माना उन्हें भी चुकाना होगा. एनडीटीवी के अनुसार अदालत ने जिस मामले में लालू प्रसाद और मिश्र को सजा दी है वह चाइबासा (अब झारखंड का हिस्सा) के सरकारी ख़जाने से 33.67 करोड़ रुपए के गबन का है. यह धांधली 1992-93 में की गई थी. इस मामले में कुल 56 लोग आरोपित हैं. अदालत इनमें से छह लोगों को आरोपमुक्त कर चुकी है.

ओडिशा : बीजू जनता दल ने सांसद बैजयंत ‘जय’ पांडा को निलंबित किया | गुरूवार, 25 जनवरी 2018

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने पार्टी सांसद बैजयंत ‘जय’ पांडा को बीजू जनता दल (बीजद) की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है. भुवनेश्वर में पार्टी उपाध्यक्ष सूर्यनारायण पात्रा ने मीडिया के सामने यह घोषणा की.

खबरों के मुताबिक़ पात्रा ने कहा, ‘पांडा ने पार्टी नेतृत्व को सुझाव दिया था कि उनका नाम लोक सभा की वित्तीय मामलों की स्थायी समिति के अध्यक्ष पद के लिए प्रस्तावित किया जाए. लेकिन पार्टी ने उनका यह प्रस्ताव नहीं माना. इसके बाद से वे पार्टी के हितों के विरुद्ध काम करने लगे थे. इसीलिए उनकी सदस्यता निलंबित की गई है.’ हालांकि पांडा ने इन आरोपों को पूरी तरह बेबुनियाद बताया है.

ओडिशा की केंद्रपाड़ा लोक सभा सीट से सांसद पांडा ने अपने निलंबन के ऐलान के बाद ट्वीट किया, ‘मुझ पर लगाए सभी आरोपों का मैं पुरज़ाेर खंडन करता हूं. ये झूठे और बेबुनियाद हैं. मैं जगन्नाथ (भगवान) से प्रार्थना करता हूं कि वे मुझे आगे का रास्ता दिखाएं.’ उनके ट्वीट से साफ़ है कि वे जल्द अगले क़दम के बारे में ख़ुलासा करने वाले हैं. उन्होंने अपने ख़िलाफ़ साज़िश किए जाने की भी बात कही है.

पद्म पुरस्कारों का ऐलान, सूची में इलैयाराजा और एमएस धोनी समेत 85 हस्तियां | शुक्रवार, 26 जनवरी 2018

69वें गणतंत्र दिवस के मौके पर पद्म पुरस्कारों के लिए नामों की घोषणा कर दी गई. विभिन्न क्षेत्रों में विशिष्ट योगदान के लिए इस साल 85 लोगोंं को देश के इन नागरिक सम्मानों से अलंकृत किया जाएगा. खास बात यह भी है कि एसोसिएशन आॅफ साउथ ईस्ट एशियन नेशंस (आसियान) से भी एक-एक शख्सियत को पद्म पुरस्कार के लिए चुना गया है.

देश के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्मविभूषण से मशहूर संगीतकार इलैयाराजा और साहित्य व शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान करने वाले गुलाम मुस्तफा खान को चुना गया है. खेल जगत से इस साल भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी जबकि बिलियर्ड्स से पंकज आडवानी को देश तीसरे सबसे बड़े पुरस्कार पद्मभूषण से सम्मानित किया जाएगा. उनके अलावा साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र से वेद प्रकाश नंदा, संगीत के क्षेत्र में योगदान देने के लिए अरविंद पारिख तथा शारदा सिन्हा, कला क्षेत्र से लक्ष्मण पई, अध्यात्म से पीएम क्रिसोस्टम, लोक कार्य के लिए रूस के एलेक्जेंडर काडाकिन और आर्कियोलॉजी के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए रामचंद्रन नागास्वामी को पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किए जाने की घोषणा की गई है.

भारत ने तीसरा टेस्ट मैच 63 रनों से जीता | शनिवार, 27 जनवरी 2018

भारत ने दक्षिण अफ्रीका से तीसरा टेस्ट मैच जीत लिया. जोहांसबर्ग में खेले गए इस मैच में भारतीय टीम ने अफ्रीका को 63 रनों से मात दी. मैच की दूसरी पारी में भारतीय टीम के द्वारा दिए गए 241 रनों के लक्ष्य का पीछे करते हुए पूरी अफ्रीकी टीम 177 रन पर आल आउट हो गयी. भारत की इस जीत की वजह उसके गेंदबाजों का शानदार प्रदर्शन रहा है जिन्होंने दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया.

इससे पहले मैच के चौथे दिन दूसरी पारी में अफ्रीकी टीम 17 रन पर एक विकेट से आगे खेलने उतरी. अफ्रीका के दोनों बल्लेबाज डीन एल्गर और हासिम अमला करीब पांच घंटे तक पिच पर जमे रहे. दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 119 रनों की साझेदारी की. एक समय इस साझेदारी को देखकर लग रहा था कि मैच शायद भारत के हाथ से निकल गया है. लेकिन, हासिम अमला के आउट होने के बाद कोई भी अफ्रीकी बल्लेबाज विकेट पर नहीं टिक सका और पूरी टीम 177 रन पर सिमट गई.