प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने काले धन को सफ़ेद करने से जुड़े मामले में हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्मयंत्री और कांग्रेस के नेता वीरभद्र सिंह के ख़िलाफ़ आरोप पत्र दायर कर दिया है. समाचार एजेंसी पीटीआई के हवाले से द इंडियन एक्सप्रेस ने बताया कि यह आरोप पत्र दिल्ली की विशेष अदालत में दायर किया गया है.

ख़बर के मुताबिक़ इस मामले में वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा और चार अन्य को भी आरोपित बनाया गया है. अन्य लोगों में यूनिवर्सल एपल एसोसिएट के मालिक चुन्नीलाल चौहान और भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के एजेंट आनंद चौहान शामिल हैं. बाकी दो आरोपितों के नाम प्रेम राय और लवन कुमार रोच बताए गए हैं. अदालत ने इस मामले में अब 12 फरवरी को अगली सुनवाई की तारीख़ तय की है.

एलआईसी एजेंट आनंद के ख़िलाफ़ यह दूसरा आरोप पत्र है. इससे पहले वीरभद्र से ही जुड़े मामले में आनंद के ख़िलाफ़ नौ जुलाई 2016 को आरोप पत्र दायर किया गया था. बाद में उन्हें अदालत से ज़मानत मिल गई थी. इससे पहले जनवरी में नई दिल्ली की विशेष अदालत ने ईडी को इस मामले में एक फरवरी तक पूरक आरोप पत्र दायर करने को कहा था. इस तर्क के साथ कि ईडी को पहले ही काफ़ी समय दिया जा चुका है.