वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को वित्त वर्ष 2018-19 का केंद्रीय बजट पेश कर दिया है. अपने पौने दो घंटे के भाषण में उन्होंने बताया कि अगले वित्त वर्ष में सरकार कुल 22.42 लाख करोड़ रुपये का खर्च करेगी. यह 2017-18 के संशोधित अनुमान से सवा दो लाख करोड़ रुपये ज्यादा है. बजट साल भर के सरकार के आय और व्यय का लेखा-जोखा होता है.

संसद में पेश किए जाने वाले बजट दस्तावेजों में वित्त मंत्री के बजट भाषण के अलावा और भी कई दस्तावेज शामिल होते हैं. इन्हें नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड किया जा सकता है :

1. वित्त मंत्री का बजट भाषण

2. बजट (पूर्ण)

3. वित्त विधेयक 2018-19

4. 2018-19 की वृहत आर्थिक रूपरेखा

इसके अलावा कई दस्तावेजों के संक्षिप्त विवरणों के लिंक भी यहां दिए गए हैं :

1. बजट (संक्षिप्त)

2. आय का संक्षिप्त विवरण

3. व्यय का संक्षिप्त विवरण

4. कर्ज और घाटे का संक्षिप्त विवरण

5. विधानसभा वाले 31 राज्यों को पैसे के ट्रांसफर का विवरण

विभिन्न योजनाओं पर हो रहे खर्च के बेहतर मूूल्यांकन के लिए मोदी सरकार अब अलग से जानकारियां जारी करती है. इनके लिंक्स हैं :

1. पिछले तीन साल के दौरान सभी योजनाओं के खर्च का विवरण

2. 2017-18 में घोषित योजनाओं की वास्तविक स्थिति

3. 2018-19 में विभिन्न योजनाओं के लक्षित आउटपुट-परिणाम का ब्योरा

वित्त मंत्री ने केंद्र की मौजूदा राजकोषीय प्रबंधन कानून में बदलाव का भी ऐलान किया है. इसके बारे में संसद में रखे गए विवरण के लिंक्स ये हैं :

1. मध्यम अवधि की राजकोषीय नीति का ब्योरा

2. राजकोषीय नीति की कार्ययोजना का ब्योरा

इससे पहले 29 जनवरी को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने वित्त वर्ष 2017-18 की आर्थिक समीक्षा पेश की थी. इसे भी नीचे के लिंक पर क्लिक करके डाउनलोड किया जा सकता है :

1. आर्थिक समीक्षा भाग-1

2. आर्थिक समीक्षा भाग-2