सुप्रीम कोर्ट ने क्रिकेटर एस श्रीसंत पर आजीवन पाबंदी के मामले में बीसीसीआई से जवाब मांगा है. द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई को श्रीसंत की याचिका पर जवाब देने के लिए चार हफ्ते का समय दिया है. श्रीसंत ने केरल हाई कोर्ट द्वारा आजीवन प्रतिबंध को दोबारा बहाल करने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. सुप्रीम कोर्ट ने श्रीसंत की याचिका को सुनवाई के लिए बीते हफ्ते स्वीकार कर लिया था.

बीसीसीआई ने 2013 में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैच में स्पॉट फिक्सिंग को लेकर क्रिकेटर श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था. हालांकि, दिल्ली स्थित पटियाला हाउस कोर्ट ने 2016 में श्रीसंत सहित सभी 36 आरोरितों को बरी कर दिया था. लेकिन बीसीसीआई ने अपने अनुशासनिक कार्रवाई में बदलाव करने से इनकार कर दिया था.

हालांकि, बीते साल केरल हाई कोर्ट ने पहले श्रीसंत पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था. लेकिन बीसीसीआई द्वारा इसे चुनौती दिए जाने पर हाई कोर्ट ने अपने फैसले को पलट दिया था. बीसीसीआई ने अपनी याचिका में कहा था कि उसने सबूतों के आधार पर श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध लगाया है. इसके बाद श्रीसंत ने विदेश में जाकर खेलने की बात कही थी. लेकिन बीसीसीआई का कहना था कि आईसीसी के नियमों के तहत कोई भी प्रतिबंधित खिलाड़ी न तो अपने देश में खेल सकता है और न ही बाहर.