सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) ने भ्रष्टाचार के मामले में डेंटल काउंसिल ऑफ़ इंडिया के रजिस्ट्रार डॉक्टर ऋषि राज को ग़िरफ़्तार किया है. साथ ही दिल्ली के एक वकील एन प्रदीप शर्मा को भी पकड़ा गया है. इन दोनों को अदालत ने अभी चार दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है.

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक़ डॉक्टर ऋषि और शर्मा पर क़रीब 4,73,000 रुपए की रिश्वत के लेन-देन का आरोप है. इस मामले में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र कुमार जैन भी जांच के दायरे में हैं. सीबीआई ने इस मामले में रविवार को डॉक्टर ऋषि के घर और दफ़्तर पर छापा मारा था. बताया जाता है कि वहां से जो दस्तावेज़ बरामद हुए हैं उनमें सत्येंद्र जैन की भूमिका संदेह के घेरे में आ गई है.

ख़बर के मुताबिक़ इस सिलसिले में एक डेंटिस्ट (दंत चिकित्सक) ने शिकायत दर्ज़ कराई थी. इसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि उनसे जुड़े एक मामले में उनके पक्ष में आदेश ज़ारी करने और उन्हें कानूनी मदद मुहैया कराने के एवज़ में 4.73 लाख रुपए की रिश्वत मांगी गई है. इस शिकायत के बाद सीबीआई ने योजना बनाकर आरोपितों को रंगे हाथ ग़िरफ़्तार किया था. इसके बाद उनके ठिकानों पर छापामारी की गई.