अंतरिक्ष रॉकेट बनाने वाली अमेरिकी कंपनी स्पेसएक्स ने एक और मील का पत्थर अपने नाम कर लिया है. उसने दुनिया के सबसे शक्तिशाली रॉकेट ‘फैल्कन हेवी’ की पहली परीक्षण उड़ान को सफलता के साथ अंजाम दिया. मंगलवार को फ्लोरिडा स्थित केनेडी स्पेस सेंटर से इस विशाल रॉकेट को छोड़ा गया. रॉकेट के साथ कंपनी के मालिक एलन मस्क की कार टेस्ला रोडस्टर को भी अंतरिक्ष में भेजा गया. करीब 23 मंजिला इमारत जितना ऊंचा फैल्कन हेवी अपने साथ करीब 63 हजार किलो वजन (पेलोड) ले जा सकता है. उसकी यह क्षमता अमेरिका के मौजूदा सबसे बड़े रॉकेट डेल्टा 4 हेवी से दोगुनी है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक लॉन्चिंग के तीन मिनट के भीतर ही फैल्कन हेवी के दोनों तरफ लगे बूस्टर रॉकेट मुख्य रॉकेट से अलग हो गए. यह इस उड़ान का सबसे नाजुक पड़ाव था. इसके कुछ मिनट बाद दोनों बूस्टर अपने आप धरती पर लौट आए. वहीं, मुख्य रॉकेट 483 किलोमीटर दूर अटलांटिक में गिरा. फैल्कन हेवी का शुरुआती प्रदर्शन सभी मानकों पर खरा उतरा है. ये सभी रॉकेट फिर से इस्तेमाल किए जा सकते हैं.

डमी ड्राइवर के साथ अंतरिक्ष में गई एलन मस्क की कार
डमी ड्राइवर के साथ अंतरिक्ष में गई एलन मस्क की कार

अंतरिक्ष व्यवसाय में निजी कंपनियों की भागीदारी के लिहाज से ‘फैल्कन हैवी’ के सफल परीक्षण को एक बड़ा कदम माना जा रहा है. परीक्षण की सफलता के बाद एलन मस्क ने इसे एक बड़ी राहत बताया. लॉन्चिंग के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा, ‘मुझे डर था कि लॉन्चिंग पैड पर ही बड़ा धमाका न हो जाए. लेकिन सौभाग्यवश ऐसा कुछ नहीं हुआ.’ इससे पहले लॉन्चिंग के समय इस विशाल रॉकेट के इंजन की ताकत देखने को मिली. उड़ान भरने के समय रॉकेट ने स्पेस स्टेशन के कॉम्प्लेक्स की दीवारों को हिला दिया. 40 साल पहले इसी जगह से नासा ने अपोलो मिशन के तहत पांच रॉकेट छोड़े थे. स्पेसएक्स का कहना है कि आने वालों सालों में उसका इरादा मंगल ग्रह पर रॉकेट भेजना है.

Play