सोशल मीडिया पर इन दिनों एक ‘शहीद भारतीय सैनिक के बेटे’ का वीडियो ख़ूब शेयर हो रहा है. कुछ समय पहले ‘इंडियन आर्मी - सर्विस बिफ़ोर सेल्फ़’ नाम के फ़ेसबुक पेज से इसे शेयर किया गया था. वीडियो के कैप्शन में लिखा है, ‘यह सेना के एक अधिकारी का बेटा है. इसके पिता आतंकियों के ख़िलाफ़ चलाए गए एक अभियान में मारे गए. इसकी मां यह ख़बर सुनकर मर गईं. यह बच्चा बोर्डिंग आर्मी स्कूल में पढ़ रहा है. ज़रा इसका आत्मविश्वास देखिए.’ आप भी यह वीडियो देखिए.

भारतीय सेना के नाम पर चलाए जा रहे कई फ़र्ज़ी पेजों पर यह वीडियो डाला गया है. इसमें बच्चा एक गाना गा रहा है जिसके बोल हैं - बाबा मेरे प्यारे बाबा. अब तक लाखों लोग इस वीडियो को देख चुके हैं. गाने के बोल और वीडियो को लेकर बनाई गई कहानी पर विश्वास कर हज़ारों लोगों ने इसे लाइक और शेयर किया है. हालांकि कुछ लोगों ने वीडियो के बारे में किए गए दावे को झूठा बताते हुए पेज चलाने वालों से अपील की है कि वे लोगों को बहकाने का काम न करें.

जिन लोगों ने यह अपील की है वे जानते हैं कि यह बच्चा अनाथ नहीं है, इसके माता-पिता दोनों ज़िंदा हैं, पिता सैन्य अधिकारी नहीं हैं और यह वीडियो भी भारत का नहीं बल्कि पाकिस्तान का है. कुल मिलाकर देखें तो वीडियो को लेकर किया गया दावा देशभक्ति का नहीं बल्कि ‘फ़र्ज़ी राष्ट्रवाद’ की मिसाल है.

इस फ़र्ज़ीवाड़े में जिस बच्चे को शहीद सैनिक का बेटा बताया गया है, दरअसल वह पाकिस्तान का मशहूर बाल-गायक ग़ुलाम-ए-मुर्तज़ा है. साल 2014 में पेशावर स्थित एक आर्मी स्कूल पर आतंकियों ने हमला कर 141 लोगों को मार दिया था. उनमें 132 बच्चे थे. मासूम बच्चों पर हुए उस हमले बर्बर हमले ने पाकिस्तान समेत पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था. इन्हीं बच्चों को श्रद्धांजलि स्वरूप ग़ुलाम-ए-मुर्तज़ा ने अपने पिता और गायक नदीम अब्बास के साथ मिलकर यह गाना गाया था - बाबा मेरे प्यारे बाबा.

Play

गाने का मुखड़ा सुनकर कई लोगों को लगा होगा कि बच्चा अपने ‘शहीद सैनिक पिता’ के लिए गा रहा है, इसलिए उन्होंने भावनाओं में बहकर इसे शेयर कर दिया. कुछ ने इसलिए शेयर कर दिया होगा क्योंकि सेना को लेकर किया गया हर दावा उनके लिए सच के सिवा कुछ नहीं होता. और कुछ ने इसलिए इसे आगे बढ़ाया ताकि एक ख़ास विचारधारा के लिए जनसमर्थन जुटाया जा सके.

चलते-चलते ‘दुश्मन देश’ के एक और बाल-गायक अज़ान का गाया एक और गाना. इसे भी पेशावर हमले में मारे गए बच्चों की याद में बनाया गया था. गाने के बोल हैं - मुझे दुश्मन के बच्चों को पढ़ाना है.

Play