अग्नि-1 के बाद बुधवार को परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम स्वदेशी पृथ्वी-2 मिसाइल का भी परीक्षण सफल रहा. खबरों के मुताबिक यह परीक्षण ओडिशा के चांदीपुर एकीकृत परीक्षण केंद्र से किया गया. लगभग 350 किमी तक निशाना साधने में सक्षम इस पृथ्वी-2 मिसाइल को सुबह 11.35 बजे एक मोबाइल लांचर से दागा गया.

पृथ्वी-2 का परीक्षण भारतीय सेना की स्ट्रेटजिक फोर्स कमांड ने किया, जिसकी निगरानी रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के वैज्ञानिक भी कर रहे थे. इस बारे में एक अधिकारी ने बताया, ‘मिसाइल के प्रक्षेपण पर रडार, इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम और डीआरडीओ के टेलीमेट्री स्टेशनों के जरिए निगाह रखी गई.’ रिपोर्ट के मुताबिक पृथ्वी-2 का परीक्षण के सभी मानकों पर सटीक रहा.

दो इंजनों वाली पृथ्वी-2 मिसाइल में तरल ईंधन का इस्तेमाल किया जाता है. यह 500 किग्रा से लेकर 1000 किग्रा तक वजनी हथियार ले जाने में सक्षम है. पृथ्वी-2 लक्ष्य पर निशाना साधने में एडवांस्ड इनर्शल गाइडेंस सिस्टम का इस्तेमाल करती है. सेना ने इससे पहले मंगलवार को अग्नि-1 का सफल परीक्षण किया था. परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम अग्नि-1 में ठोस ईंधन से चलने वाला एक इंजन है. यह 700 किमी की दूरी तक निशाना साध सकती है.