अरुणाचल प्रदेश का बोमजा गांव एक ही दिन में एशिया के सबसे अमीर गांवों में शामिल हो गया. तवांग जिले के इस गांव की 200 एकड़ से ज्यादा जमीन का रक्षा मंत्रालय ने अधिग्रहण किया था. पांच साल पहले किए गए इस अधिग्रहण की रकम गुरुवार को मुआवजे के तौर पर दी गई. गांव के सभी 31 परिवारों को कुल 40 करोड़ 80 लाख रुपये दिए गए.

मंत्रालय की तरफ से मिले पैसे से ये लोग करोड़पति बन गए. हरेक परिवार को मुआवजे के तौर पर कम से कम एक करोड़ रुपये की राशि प्राप्त हुई. एक परिवार को तो मंत्रालय की तरफ से 6.73 करोड़ रुपये का मुआवजा मिला. राज्य के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने परिवारों को मुआवजे के चेक दिए. इस तरह बोमजा एशिया का पहला गांव बन गया जहां रहने वाले सभी परिवार करोड़पति हैं.

1962 के भारत-तीन युद्ध के बाद से तवांग जिला रणनीतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण माना जाता है. बोमजा गांव तवांग से 50 किलोमीटर दूर है. वहीं, भूटान की सीमा से इसकी दूरी मात्र पांच किलोमीटर है. चीन के मद्देनजर भारत ने यहां अपना सैन्य आधार मजूबत किया है.