कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली पर झूठ बोलने का आरोप लगाया है. एक ट्वीट कर उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री के बयान के उलट यूपीए सरकार ने फ्रांस के साथ हुए इस सौदे की कीमत की जानकारी संसद को दी थी. उन्होंने अपने ट्वीट के साथ पिछली सरकार के तीन जवाबों की प्रतियां भी लगाईं. उन्होंने कहा कि अब सरकार को राफेल सौदे की कीमत बतानी चाहिए. इससे पहले अरुण जेटली ने कहा था कि यह कीमत सार्वजनिक करने की मांग करके कांग्रेस राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता कर रही है. उनका यह भी कहना था यूपीए सरकार ने भी कभी इसे सार्वजनिक नहीं किया था.

राहुल गांधी ने इससे पहले कहा था कि फ्रांस के साथ हुआ राफेल विमान सौदा एक बड़ा घोटाला है. उन्होंने आरोप लगाया था कि यूपीए के कार्यकाल में हुए इस सौदे की शर्तें बदलवाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद पेरिस गए थे. उनका यह बयान रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन के उस बयान के बाद आया था जिसमें उन्होंने कहा था कि फ्रांस के साथ हुए 36 लड़ाकू विमानों के इस सौदे की कीमत सार्वजनिक नहीं की जा सकती. इस पर राहुल गांधी ने कहा था कि रक्षा मंत्रालय पहली बार ऐसी बात कर रहा है और इस नीति पर सवाल उठना चाहिए.

राफेद सौदे को लेकर कांग्रेस पहले भी मोदी सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाती रही है. उसका कहना है कि यूपीए सरकार ने इन विमानों की जो कीमत तय की थी, उससे कहीं ज्यादा कीमत पर मोदी सरकार ने इन्हें खरीदा है. पार्टी के मुताबिक एक कारोबारी को फायदा पहुंचाने के लिए सौदे की शर्तें बदल दी गईं. उधर, सरकार इन आरोपों को बेबुनियाद बताती रही है.