बीती सात फरवरी को विस्तारा एयरलाइंस और एयर इंडिया के विमान हवा में टकराते-टकराते बचे. यह घटना मुंबई के हवाई क्षेत्र की है. दोनों विमान इतना करीब आ गए कि उनके दरमियान चंद सेकेंडों का फासला ही बचा था. गहरे तनाव के उन क्षणों में एयर इंडिया की महिला कमांडर पायलट अनुपमा कोहली की सूझबूझ से एक बड़ा हादसा टल गया और दोनों विमानों में सवार 261 यात्रियों की जान बच गई. दिलचस्प बात यह भी है कि जब यह घटना घटी तो विस्तारा के विमान की कमान भी महिला पायलट के हाथ में थी. मामले की जांच में पता चला है कि यह स्थिति विमानन कंपनियों के एयर ट्रैफिक कंट्रोलर (एटीसी) की तरफ से समन्वय में हुई कुछ दिक्कत के कारण पैदा हुई थी. एटीसी को निलंबित कर दिया गया है.

खबरों के मुताबिक एयर इंडिया की एयरबस ए-319 मुंबई से भोपाल के लिए जबकि विस्तारा की ए-320 नियो दिल्ली से पुणे के सफर पर थी. उसी दौरान दोनों विमान एक-दूसरे के करीब आ गए थे. उस घटना के वक्त विस्तारा एयरलाइंस का विमान अपनी निर्धारित ऊंचाई 29 हजार फीट से नीचे उतरकर 27100 फीट के स्तर पर उड़ रहा था. वहीं उसी ऊंचाई पर विपरीत दिशा से एयर इंडिया का विमान आ रहा था. जब यह घटना घटी तो उस दौरान विस्तारा के कमांडर पायलट शौचालय गए हुए थे और कमान महिला पायलट ने संभाली हुई थी. माना जा रहा है कि एटीसी से विस्तारा के विमान को मिले दिशा-निर्देशों में कुछ अस्पष्टता रह गई थी जिससे वह नीचे उतर आया था.

उधर विस्तारा की उड़ान को अपने विमान के करीब आता देख एयर इंडिया की कमांडर पायलट ने रेड सिग्नल दिया. एटीसी और विस्तारा की महिला पायलट की बातचीत में उन्हें पता चला कि विस्तारा को उसी ऊंचाई पर उड़ने के लिए कहा गया है. वह बेहद तनावपूर्ण स्थिति थी. तब एयर इंडिया की पायलट अनुपमा कोहली ने समझदारी दिखाते हुए फौरन अपने विमान की ऊंचाई बढ़ानी शुरू कर दी और फिर उसे दाहिनी तरफ मोड़ दिया. विस्तारा के विमान के लिए इससे साफ रास्ता बना और वह आगे निकल गया. इस तरह दोनों विमान अपने गंतव्यों तक सुरक्षित पहुंच गए.

तनाव भरे उन लम्हों में अनुपमा कोहली द्वारा दिखाई सूझबूझ की एयर इंडिया ने तारीफ की है. उधर विस्तारा एयरलाइंस की तरफ से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. उसने यह जरूर कहा है कि विस्तारा के उड़ान दल ने किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया है. इस पूरे घटनाक्रम की विस्तृत जांच की जा रही है.